Connect with us

Featured

कोरोना के बाद अब डेंगू से ब्लैक फंगस का खतरा, जबलपुर में पहला मामला

Published

on

मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में एक अनोखा केस डॉक्टरों के सामने आया । दरअसल डेंगू पीड़ित युवक ब्लैक फंगस की चपेट में आ गया। इस तरह का यह मामला मध्यप्रदेश में पहला है । पीड़ित की दोनों आँखों पर ब्लैक फंगस का असर देखने को मिला। पीड़ित की प्लेटलेटर्स तो ठीक-ठाक है।  लेकिन मरीज की दोनों आंखों के नीचे मवाद भर गया हैं। जिसे ऑपरेशन के माध्यम से निकला जायेगा। डॉक्टर ऐसा केस देख कर हैरान हैं, ENT विभाग की हेड डॉ.कविता सचदेवा ने बताया की।  यह मरीज अस्पताल में एक सप्ताह पहले ही आया था।  इस मरीज को डेंगू हुआ था। उसने पहले अपने घर पर रहकर स्थानीय डॉक्टरों के माध्यम से इलाज कराया। बाद में उसकी आंखे लाल हो गई। जब उसने नेत्र विशेषय को दिखाया तो वह भी नहीं समझ पाए। बाद में मेडिकल ENT विभाग रेफर किया गया।

डेंगू के बाद ब्लैक फंगस का इलाज

Victoria Hospital Jabalpur This is the district hospital Victoria of  Jabalpur here the land is in the luck of the patients

डॉ. कविता ने बताया की मरीज का पहले डेंगू का संपूर्ण इलाज हुआ। इलाज से दौरान मरीज को ब्लैक फंगस की दावा दी जाती रही हैं।अब मरीज डेंगू से ठीक हो चूका है ।अब उसका ब्लैग फंगस का इलाज किया जायेगा। दूरबीन के माध्यम से मरीज की आंखों के नीचे से मवाद निकला जायेगा।

ENT में 14 और मरीजों का इलाज जारी

Black Fungus' Infection, Causes, Symptoms & Treatment | Ketto

जबलपुर की मेडिकल कॉलेज के ENT विभाग में अभी भी कुल ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज जारी हैं। ब्लैक फंगस की बीमारी अब एक आम बीमारी होती जा रही है। इस साल इस बीमारी का आंकड़ा 140 के पार पहुंच गई हैं।

Advertisement

रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने का खतरा

three types of immunity know the strongest type immunity boosting tips samp  | 3 Types of Immunity: तीन तरह की होती है इम्यूनिटी, जानें कौन-सा प्रकार है  सबसे ताकतवर | Hindi News, सेहत

डॉक्टरों ने बताया की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण ही ब्लैक फंगस होने का खतरा बढ़ जाता हैं। वहीँ स्टेरायड का हाईडोज लेने की बजह से मरीज अस्थाई तौर पर दायबिटीज हो जाता हैं । जिसके कारण से ब्लैक फंगस की चपेट में आ जाते हैं।

ब्लैक फंगस के लक्षण

डॉ. नवनीत के अनुसार इस बीमारी के शुआती लक्षणों का इलाज संभव हैं लक्षणों में सिर दर्द, बुखार, नाक से ब्लैक डिस्चार्ज, आंख में सुजन आना, आंख लाल होना कम दिखना या डबल दिखना ।

Advertisement
Share Post:
Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel. Website Design & Developed By Shreeji Infotek