H

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बोले - सनातन धर्म को बिना जाने न करें किसी अन्य धर्म से तुलना

By: Durgesh Vishwakarma | Created At: 04 February 2024 11:37 AM


पं. आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि, कोर्ट के आदेश पर अगर आप सवाल उठा रहे हैं तो इसका मतलब ये है कि, आपको खुद भी यकीन नहीं है। न्याय प्रणाली पर आपका भरोसा नहीं है।

banner
बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पं. आचार्य धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने शनिवार को अपनी पुस्तक ‘सनातन धर्म क्या है ? इसका विमोचन किया। इस दौरान धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने कहा कि, भारत में कुछ लोगों को छोड़कर, कुछ संत महापुरुषों को छोड़कर बाकी किसी को सनातन धर्म के बारे में पता ही नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि, बाकी लोग नहीं जानते कि, सनातन धर्म क्या है? वे सनातन के अंगों और सिद्धांतों को नहीं जानते ?

सनातन धर्म क्या है ?

पं. आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने अपनी पुस्तक ‘सनातन धर्म क्या है ? के मौके पर कहा कि, वे नहीं जानते कि, सनातन के लक्षण क्या हैं? सनातन कहते किसे हैं और सनातन की तुलना हम मजहबों से कर रहे हैं तो यह कितना उचित है और कितना अनुचित है? इसके साथ अपनी पुस्तक अपनी पुस्तक ‘सनातन धर्म क्या है? को लेकर बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर शास्त्री ने कहा कि, यह पुस्तक बच्चों, बूढ़ों और अन्य लोगों के लिए बहुत ही सरल भाषा में लिखी गई है। पुस्तक में हमने किसी को अपमानित नहीं किया है।

न्याय प्रणाली स्वतंत्र होती है

आपको बता दें कि, इस कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता सुधांशु त्रिवेदी और दिल्ली से बीजेपी सांसद मनोज तिवारी सहित कई लोग मौजूद थे। इस दौरान ज्ञानवापी मामले पर आए कोर्ट के फैसले को लेकर पं. आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि, कोर्ट के आदेश पर अगर आप सवाल उठा रहे हैं तो इसका मतलब ये है कि, आपको खुद भी यकीन नहीं है। न्याय प्रणाली पर आपका भरोसा नहीं है। शास्त्री ने आगे कहा कि, न्याय प्रणाली स्वतंत्र होती है। वह किसी के अधीन काम नहीं करती है। उन्होंने कहा कि, ज्ञानवापी में नंदी निकल चुके हैं अब भगवान शंकर जी का निकलना तय है।