Connect with us

Politics

अनुच्छेद 370 की वापसी पर बोले फारूख अब्दुल्ला, अपने अधिकारों को पाने के लिए किसानों की तरह बलिदान देने की जरूरत

Published

on

Share Post:
  • जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला का संबोधन
  • शेख मोहम्मद अबदुल्ला की 116वीं जयंती पर बोले अब्दुल्ला
  • कहा- एकजुट होकर ही किया जा सकता है लक्ष्य हासिल

 

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला ने रविवार को कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में अनुच्छेद 370 और 35 (ए) को पुन: लागू करने के लिए क्षेत्र के लोगों को किसानों की तरह बलिदान करना पड़ सकता है। नेशनल कांफ्रेस पार्टी के संस्थापक शेख मोहम्मद अबदुल्ला की 116वीं जयंती के अवसर पर नसीमबाग स्थित उनके मकबरे में नेकां की युवा शाखा के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि हालांकि उनकी पार्टी हिंसा का समर्थन नहीं करती हैं।

बलिदान के लिए तैयार हैं- फारूख अब्दुल्ला

अब्दुल्ला ने कहा कि इस साल नवंबर में हैदरपोरा मुठभेड़ के बाद हुए विरोध प्रदर्शन के कारण दो नागरिकों के शव को उनके परिवार को लौटाना पड़ा था। इससे यह पता चलता है कि अगर लोग एकजुट रहे तो, हर लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है।

Advertisement

अब्दुल्ला ने आगे कहा कि, उन्होंने 11 महीने तक विरोध किया और उनमें से 700 की मौत हुई। जब जाकर सरकार ने मजबूर होकर तीन कानून को वापस लेने का फैसला लिया। हमें अपने अधिकारों को पाने के लिए किसानों की तरह बलिदान देना पड़ सकता है। हनमे 370 वापस लाने का वादा किया है और 35 (ए) को राज्य का दर्जा दिलाने का। हम इस बलिदान के लिए तैयार हैं। अब्दुल्ला ने कहा, हमें एकजुट रहना चाहिए, हमें अपने भीतर छोटे-छोटे मतभेदों को भूलना चाहिए और हमें एक डोर पकड़नी चाहिए।

29 नवंबर को वापस लिए गए थे तीनों कृषि कानून

बता दें कि किसानों के लगभग 1 साल के विरोध के बाद, पीएम मोदी ने 19 नवंबर 2021 को तीनों नए कृषि कानून वापस लेने का फैसला किया था। जिसके बाद 29 नवंबर को संसद के शीतकालीन सत्र के शुरू होने से पहले ही तीनों कानूनों को रद्द करने संबधी विधेयक को पारित किया गया।

Advertisement
Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.