Connect with us

Madhya Pradesh

लड़कियों की तस्करी करने वाला सौदागर हुआ गिरफ्तार

Published

on

  • युवक 5 साल से कर रहा धंधा
  • 75 लड़़कियों से कर चुका शादी
  • बांग्लादेशी लड़कियों की कर रहा था तस्करी

 

इंदौर। पुलिस की गिरफ्त में आये बांग्लादेशी लड़कियों के तस्कर मुनीर उर्फ़ मुनीरुल से पूछताछ की गई तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। आरोपी ने बांग्लादेश सो करीब 200 लड़कियों को लाकर वैश्यावृति के धंधे में धकेला था। वह लगभग 5 साल से इस धंधे में है। वह हर महीने 50 से ज्यादा लड़कियों को लाया करता था और 75 लड़़कियों से अभी तक शादी भी कर चुका है। 30 सितंबर यानि गुरुवार को इंदौर एसआईटी ने मुनीर को सूरत से गिरफ्तार कर लिया था। आरोपी लड़कियों को बांग्लादेश और भारत के पोरस बॉर्डर पर नाले के रास्ते लाता था और बॉर्डर के पास के छोटे गांव में एजेंट्स के जरिये लड़कियों को मुर्शिदाबाद और पास के गांव में लाकर ही भारत में एंट्री करवाते थे।

डिमांड पर लड़कियों होती थी सप्लाई

इंदौर पुलिस ने 11 महीने पहले लसूड़िया और विजय नगर इलाके में ऑपरेशन कर लगभग 21 बांग्लादेशी लड़कियों का रेस्क्यू कर उन्है छुड़वाया था। जिसमें कई और लड़किया भी शामिल थी। मामले में सागर उर्फ सैंडो, आफरीन, आमरीन व अन्य लोग आरोपी बनाए गए थे, मुनीर भाग निकला था। उसे गुरुवार को सूरत से पकड़कर इंदौर लाया गया। मुनीर पर इंदौर पुलिस ने 10,000 का इमान रखा था। वह बांग्लादेश के जसोर का रहने वाला है। ज्यादातर लड़कियों से उसने शादी की और फिर इंडिया में लाकर बेचा। उसने कहा कि पीछे उसका बड़ा नेटवर्क है। मुनीर से पता चला है कि जब लड़कियों की डिमांड होती है तो वह लड़कियों को दूसरे शहरो में भी सप्लाई करता था।

लड़कियों को बॉडी लैंग्वेज की ट्रेनिंग दी जाती थी

बांग्लादेशी लड़कियों को यहां तक लाने की जो कहानी सामने आई है, उसमें यह पता लगा कि बांग्लादेश के एजेंट गरीब लड़कियो को नौकरी का झांसा देकर बार्डर पार करवाते थे। यहां पर उन्है 7 दिन से भी ज्यादा रखा जाता था। उन्है अच्छे रहन-सहन और बॉडी लैंग्वेज की ट्रेनिंग दी जाती थी। जब वे लड़कियां ट्रेंड हो जाती थी तब उन लड़कियों को मुंबई भेजा जाता था। यहां फिर ट्रेनिंग दी जाती थी। इसके बाद शहरों से आई डिमांड के अनुसार लड़कियों को उन सिटी तक भेजा जाता था।

Advertisement

लड़कियों को मुंबई से रवाना करने के पहले उनके सभी दस्तावेज रख लिए जाते थे , इसकी पहचान एजेंट आंखों के जरिए करते थे। ये सूरत के स्पा सेंटर्स के अलावा इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, पुणे, मुंबई, बेंगलुरु में भी लड़कियों को भेजने का काम करते थे।

Share Post:
Advertisement

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel. Website Design & Developed By Shreeji Infotek