Connect with us

International

मिस्त्र में महिलाओं के लिए लिया गया अहम फैसला, 100 महिलाएं बनी पहली बार जज

Published

on

Share Post:
  • मिस्त्र के मुख्य न्यायिक निकायों ने लिया फैसला
  • पहली बार बनी 100 महिलाएं जज
  • महिला जजों को मिला समान कार्य

 

मिस्त्र के मुख्य न्यायिक निकायों में से एक स्टेट काउंसिल में पहली बार करीब 100 महिलाओं को जज के पद पर नियुक्त किया गया है। स्टेट काउंसिल में जज बनने वाली ये पहली महिला जज हैं। न्यायपालिका क्षेत्र में महिलाओं को सशक्त बनाने और उनकी भागीदारी को बढ़ाने की योजना के तहत मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल-फतह अल-सिसी ने मार्च में स्टेट काउंसिल में विशेष रूप से महिला जजों को नियुक्त करने के निर्देश दिए थे।

उप-परामर्शदाता के रूप में 50 जजों को शामिल किया गया है

मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, स्टेट काउंसिल में महिला सदस्यों के पहले बैच में सहायक सलाहकार के रूप में 48 जज और उप-परामर्शदाता के रूप में 50 जजों को शामिल किया गया है। ये सभी महिला जजों ने मंगलवार को अपने पद ग्रहण की शपथ ली। स्टेट काउंसिल के उपाध्यक्ष ताहा करसौआ ने इस फैसले पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि, यह कदम मिस्त्र में महिलाओं के लिए एक खूबसूरत उपहार है। महिला जजों को पुरुष न्यायाधीशों के समान कार्य व अधिकार दिए गए हैं। स्टेट काउंसिल, 1946 में स्थापित हुई, एक स्वतंत्र न्यायिक निकाय है।

Advertisement

करसौआ ने कहा कि निर्णय सीसी के निर्देशों का कार्यान्वयन है। उन्होंने कहा कि इन सभी महिला जजों को न्याय करने और सभी परिषद अदालतों में संघर्षों को निपटाने में पुरुष न्यायाधीशों के समान कार्य करने होंगे। यह निकाय प्रशासनिक विवादों, अनुशासनात्मक मामलों और अपीलों और अपने निर्णयों से संबंधित विवादों पर निर्णय लेने के लिए विशेष रूप से सक्षम है।

75 वर्षों से महिला न्यायाधीशों के बिना चल रही थी निकाय

नए शपथ ग्रहण न्यायाधीशों में से एक रीम मूसा है, उन्होंने कहा, मुझे राज्य परिषद में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त होने पर बहुत गर्व हुआ है। प्रशासनिक न्यायपालिका का हिस्सा बनना एक सम्मान की बात है। मूसा ने कहा कि उसने सोचा था कि एक महिला के लिए परिषद में न्यायाधीश बनना एक कठिन काम हैं क्योंकि यह निकाय 75 वर्षों से महिला न्यायाधीशों के बिना चल रही थी। उन्होंने सिन्हुआ को बताया, आज मिस्र की महिलाओं की जीत हुई है और यह संविधान के लेखों में लिखा है कि नौकरियों में पुरुषों और महिलाओं के बीच समानता होनी चाहिए। जिस वजह से ही यह पद हमें हासिल हो सके हैं। यह सभी महिलाओं के लिए नौकरियों में बेहतर हासिल करने के लिए प्रोत्साहन का काम करेगी, जिससे और महिलाएं इस निकाय से जुड़ सकें।

Advertisement

महिलाओं के लिए मिस्र की राष्ट्रीय परिषद (एनसीडब्ल्यू) ने राज्य परिषद में महिला न्यायाधीशों की नियुक्ति की सराहना करते हुए महिलाओं को और अधिक सशक्त बनाने के लिए काउंटी के नेतृत्व की राजनीतिक इच्छा को प्रदर्शित करने वाले एक कदम के रूप में सराहना की। एनसीडब्ल्यू की प्रमुख माया मुर्सी ने कहा, महिलाओं की पिछली पीढ़ियों के सपने आखिरकार सच हो गए।

Share Post:
Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.