Connect with us

Madhya Pradesh

देश पर शहीद हुए वीर जवान कर्णवीर, दो आतंकियों को किया ढेर

Published

on

Share Post:
  • सतना के बहादुर लाल पर पूरे देश को नाज
  • दुश्मनों का सामना करते-करते शहीद हुए थे कर्णवीर
  • शहीद के शौर्य को प्रणाम करने पहुंच रहे लोग

 

कश्मीर के शोपियां में एनकाउंटर में सतना के वीर जवान कर्णवीर सिंह राजपूत अपना शौर्य दिखाते हुए वीर गति को प्राप्त हो गए। 26 साल के कर्णवीर सतना शहर के रहने वाले रिटायर्ड फौजी राजू सिंह के बेटे थे। बेटे की शहादत की खबर परिजनों तक पहुंच चुकी है। दो आतंकियों को मारने के बाद गोलीबारी में वे जख्मी हो गए थे। कर्णवीर 21 राजपूत रेजिमेंट 44RR में तैनात थे।

सतना के वीर जवान कर्णवीर सिंह राजपूत की शहादत पर पूरे देश को नाज है। जिस दिलेरी और बहादुरी से उन्होंने दुश्मनों का सामना किया। वो अब इतिहास के पन्नों में हमेशा-हमेशा के लिये दर्ज हो गया है। देश की रक्षा में जान न्यौछावर करने का सौभाग्य चंद खुशनसीबों के हिस्से में ही आता है।

मां का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है

Advertisement

शहीद के परिवार वालों को जहां एक तरफ बेटे की शहादत पर फक्र महसूस हो रहा है। वहीं दूसरी तरफ बेटे के गम में मां का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। नगर के जनप्रतिनिधियों का शहीद के घर आने का सिलसिला जारी है। शहीद के शौर्य को प्रणाम करने के लोग लिए पहुंच रहे हैं। इधर परिजन भी शहीद बेटे को याद करते हुए भावुक हो उठते हैं। कर्णवीर दुश्मनों का सामना करते-करते शहीद हुए थे। कर्णवीर सिंह सतना के ग्राम दलदल के रहने वाले थे।

शहादत वाले दिन कर्णवीर का था जन्मदिन

ये भी इत्तेफाक की बात है कि जिस दिन शहीद कर्णवीर की शहादत की खबर आई थी, उसी दिन तिथि के अनुसार उनका जन्म दिन भी है। हालांकि उनका जन्म 28 नवंबर 1998 को हुआ था। उस दिन भी शरद पूर्णिमा ही थी। कर्णवीर की प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम हटिया में अपनी मौसी के यहां हुई थी। सैनिक स्कूल रीवा में उनका दाखिला हुआ। वे महू के सैनिक स्कूल में भी पढ़े। उनका सेलेक्शन भी महू से ही हुआ था।

Advertisement

 

Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.