Connect with us

Madhya Pradesh

ऐसे व्यक्ति को उस प्रांत का प्रदेश अध्यक्ष क्यों बनाया जिसकी सीमाएं पड़ोसी राष्ट्र से लगती है: मंत्री डॉ मंत्री नरोत्तम मिश्रा

Published

on

Share Post:
  • पंजाब में सियासी घमासन के बीच बोले गृहमंत्री मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा
  • पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष का है पड़ोस देश पाक से खास रिश्ता
  • निजी हॉस्पिटल का उदघाटन करने डबरा पहुंचे थे मंत्री

ग्वालियर। पंजाब में लंबे समय तक चले सियासी घमासान के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder) ने शनिवार को मुख्यमंत्री पद (Punjab CM Resign) से इस्तीफा दे दिया । पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच खटास बनी हुई है. जिसके बाद कैप्टन ने विधायक दल की बैठक से पहले ही इस्तीफा दे दिया। इसको लेकर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री ने डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है मंत्री ने सोनिया गांधी से पूछा ऐसे व्यक्ति को उस प्रांत का प्रदेश अध्यक्ष क्यों बनाया जिसकी सीमाएं पड़ोसी राष्ट्र से लगती है। एक निजी हॉस्पिटल का उदघाटन करने डबरा पहुंचे मध्यप्रदेश के गृहमंत्री ने यह बयान दिया।

डबरा पहुंचे मंत्री नरोत्म मिश्रा

पंजाब की सियासत पर गृहमंत्री डॉ नरोत्म मित्रा का बयान

गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ब्यान पर कांग्रेस पर निशाना साधा। मंत्री ने सोनिया गांधी से पूछते हुए कहा कि ऐसे व्यक्ति को उस प्रांत का प्रदेश अध्यक्ष क्यों बनाया जिसकी सीमाएं पड़ोसी राष्ट्र से लगती है। गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ है इस बात को सोनियां गांधी साफ करें।

पंजाब के तत्कालीन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

इस्तीफे के बाद सिद्धू पर साधा निशाना

कैप्टन ने एक इंटरव्यू में कहा कि सिद्धू को मुख्यमंत्री बनाने का वो विरोध करेंगे, क्योंकि उनकी पाकिस्तान के सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा और प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ दोस्ती है। उधर, पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पार्टी आलाकमान की ओर से भेजे गए पर्यवेक्षकों में अजय माकन, हरीश चौधरी और कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने अगले मुख्यमंत्री का फैसला आलाकमान पर छोड़ दिया।

पार्टी में अपमानित महसूस कर थे कैप्टन

Advertisement

बीते दो महीने से  कैप्टन पार्टी में अपमानित महसूस कर रहे थे। जिसके बाद कैप्टन ने शनिवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। कैप्टन अपनी पत्नी परनीत कौर, सांसद गुरजीत सिंह औजला, बेटे रणइंदर सिंह के साथ पंजाब राजभवन पहुंचे और राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

पत्रकार वार्ता में लगाया कांग्रेस पार्टी पर अपमानित करने का आरोप

राजभवन से बाहर आकर कैप्टन ने पत्रकारों से कहा कि पिछले दो महीने से कांग्रेस नेतृत्व द्वारा मुझे अपमानित किया गया। उन्होंने दो बार विधायकों को दिल्ली बुलाया और अब चंडीगढ़ में कांग्रेस विधायक दल की बैठक रखी है। जाहिर है कांग्रेस आलाकमान को मुझ पर भरोसा नहीं है और उन्हें नहीं लगता कि मैं अपना काम संभाल सकता हूं। पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि अब आलाकमान जिसे चाहे प्रदेश का नेतृत्व सौंप सकता है।

Advertisement

भविष्य को लेकर कहा कई रास्ते खुले है

भविष्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हमेशा एक विकल्प होता है और समय आने पर उस विकल्प का प्रयोग करेंगे। साथ ही कहा कि वह अपने उन समर्थकों की सलाह से भविष्य के राजनीतिक कदम पर फैसला करेंगे। बाद में उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस में ही रहेंगे। इस्तीफे के बाद वह पंजाब कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए।

Advertisement
Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.