H

मस्तक पर बिंदिया, नाक में नथ और गले में हार, महाकाल के देवी रूप को देखते रह गए श्रद्धालु

By: Sanjay Purohit | Created At: 28 June 2024 09:31 AM


भस्म आरती में बाबा महाकाल ने भक्तों को देवी स्वरूप में दिए दर्शन। सप्तमी तिथि व शुक्रवार के संयोग पर भस्मआरती में बाबा महाकाल का देवी स्वरूप में श्रृंगार किया गया।

bannerAds Img
विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मंदिर में शुक्रवार को आषाढ़ कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि पर तड़के भस्म आरती के दौरान सुबह चार बजे मंदिर के पट खुलते ही पण्डे पुजारी ने गर्भगृह में स्थापित सभी भगवान की प्रतिमाओं का पूजन कर भगवान महाकाल का जलाभिषेक दूध, दही, घी, शक्कर पंचामृत और फलों के रस से किया।

इसके बाद प्रथम घंटाल बजाकर हरि ओम का जल अर्पित किया गया। कपूर आरती के बाद बाबा महाकाल को नवीन मुकुट धारण करवाया गया। आज के शृंगार की विशेष बात ये रही कि आज आषाढ़ कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि व शुक्रवार के संयोग पर भस्मआरती में बाबा महाकाल का देवी स्वरूप में श्रृंगार किया गया। श्रृंगार के दौरान मस्तक पर बिंदिया, नाक मे नथ और गले मे हार पहनाया गया। इसके बाद महानिर्वाणी अखाड़े की ओर से भगवान महाकाल को भस्म अर्पित की गई। इस दौरान हजारों श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल के दिव्य दर्शनों का लाभ लिया।