H

भोपाल में 3 डिग्री लुढ़का रात का पारा, ग्वालियर- चंबल में वर्षा-ओलावृष्टि के आसार

By: Ramakant Shukla | Created At: 03 February 2024 01:12 PM


उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में जबरदस्त बर्फबारी हो रही है। उस क्षेत्र में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढ़ने के साथ ही हवा का रुख उत्तरी होने के कारण प्रदेश के कई शहरों में रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इसी क्रम में प्रदेश में शनिवार को सबसे कम 5.9 डिग्री सेल्सियस तापमान दतिया में रिकॉर्ड किया गया। ग्वालियर में 8.3 और रीवा में 8.4 न्यूनतम तापमान रहा। दतिया सहित पांच शहरों ग्वालियर, खजुराहो, मंडला एवं रीवा में रात का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम दर्ज किया गया। ग्वालियर और दतिया में रात का पारा 24 घंटे के भीतर 05 डिग्री तक लुढ़क गया। राजधानी में भी रात का पारा शुक्रवार के न्यूनतम तापमान 14.6 डिग्री सेल्सियस की तुलना में तीन डिग्री सेल्सियस लुढ़ककर शनिवार को 11.6 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। हिल स्टेशन पचमढ़ी में रात का पारा 7.4 डिग्री सेल्सियस पर रहा।

banner
उत्तर भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में जबरदस्त बर्फबारी हो रही है। उस क्षेत्र में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढ़ने के साथ ही हवा का रुख उत्तरी होने के कारण प्रदेश के कई शहरों में रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इसी क्रम में प्रदेश में शनिवार को सबसे कम 5.9 डिग्री सेल्सियस तापमान दतिया में रिकॉर्ड किया गया। ग्वालियर में 8.3 और रीवा में 8.4 न्यूनतम तापमान रहा। दतिया सहित पांच शहरों ग्वालियर, खजुराहो, मंडला एवं रीवा में रात का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम दर्ज किया गया। ग्वालियर और दतिया में रात का पारा 24 घंटे के भीतर 05 डिग्री तक लुढ़क गया। राजधानी में भी रात का पारा शुक्रवार के न्यूनतम तापमान 14.6 डिग्री सेल्सियस की तुलना में तीन डिग्री सेल्सियस लुढ़ककर शनिवार को 11.6 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। हिल स्टेशन पचमढ़ी में रात का पारा 7.4 डिग्री सेल्सियस पर रहा।

पश्चिमी विक्षोभ का असर

शनिवार को एक नया पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत में आ गया है। इसके असर से रविवार से ग्वालियर, चंबल, सागर, उज्जैन एवं भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा हो सकती है। इस दौरान ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं ओले भी गिर सकते हैं।

छाएंगे बादल, ओलावृष्टि के भी आसार

उत्तर भारत में पिछले दिनों आया पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ चुका है। उसके आगे बढ़ने के बाद सर्द हवाएं चलने से मध्यप्रदेश में रात के तापमान में कमी दर्ज की गई है। शनिवार को दिन के तापमान में भी मामूली गिरावट हो सकती है। वर्तमान में पश्चिमी जेट स्ट्रीम उत्तर भारत से लेकर मध्यभारत तक सक्रिय है। एक नया पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान के आसपास आ चुका है। तीव्र आवृति वाली इस मौसम प्रणाली के प्रभाव से शनिवार शाम से ही मौसम का मिजाज बदलने लगेगा। बादल छाने के कारण रात के तापमान में बढ़ोतरी होने लगेगी। रविवार से ग्वालियर, चंबल, सागर, उज्जैन, भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा का सिलसिला शुरू होने के आसार हैं। इस दौरान ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी हो सकती है। हालांकि बादल बने रहने के कारण रात के तापमान में गिरावट होने की संभावना कम है। मौसम का इस तरह का मिजाज दो-तीन दिन तक बना रह सकता है।