H

एमपी बोर्ड 10वीं की परीक्षाएं आज से शुरू, सेंटर जाने से पहले पढ़ लें नियम

By: Richa Gupta | Created At: 05 February 2024 09:15 AM


मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से आज 5 फरवरी 2024 से 10वीं बोर्ड परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा 5 फरवरी से शुरू होकर 28 फरवरी तक चलेगी।

banner
मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से आज 5 फरवरी 2024 से 10वीं बोर्ड परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा 5 फरवरी से शुरू होकर 28 फरवरी तक चलेगी। वहीं एमपी बोर्ड 12वीं की परीक्षाएं 6 फरवरी 2024 से शुरू होंगी और 5 मार्च को समाप्त होंगी।

कई नियमों में बदलाव

छात्रों का पहला पेपर हिंदी विषय का होगा। बोर्ड परीक्षाओं में नकल को रोकने के लिए सख्त इंतजाम किए गए हैं। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इस बार सख्ती अपनाते हुए कई नियमों में बदलाव किया है। ऐसे में परीक्षा देने जाने से पहले इन नियमों में बारे में पढ़ लें।

पहला पेपर हिंदी का

मध्य प्रदेश में आज से 10वीं बोर्ड परीक्षा शुरू हो रही है। पहले दिन हिंदी विषय की परीक्षा होगी। इस साल 10वीं बोर्ड परीक्षा के लिए 3868 केंद्र बनाए गए हैं, जिनमें से 302 संवेदनशील केंद्र हैं। इन केंद्रों में प्रदेश भर के 9.92 लाख अभ्यर्थी 10वीं बोर्ड की परीक्षा देंगे। परीक्षा सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक होगी।

इन बातों का रखें ध्यान

छात्रों को परीक्षा शुरू होने से आधा घंटे पहले केंद्र में पहुंचना होगा। छात्रों को एग्जाम हॉल में आधा घंट पहले तक ही एंट्री दी जाएगी। इसके साथ ही नई गाइडलाइन के मुताबिक 32 पेज की मुख्य विषय की कॉपी मिलेगी। यानी छात्रों को एक्स्ट्रा शीट (सप्लीमेंट्री शीट) नहीं मिलेगी। वोकेशनल और संस्कृत विषय के लिए 20 पेज की कॉपी दी जाएगी, जबकि प्रायोगिक परीक्षाओं में 10वीं के छात्रों को 8 और 12वीं के छात्रों को 12 पन्नों की कॉपी मिलेगी।

QR कोड

बोर्ड परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए बोर्ड ने इस बार एडमिट कार्ड में QR कोड लगाए हैं। इसे स्कैन करते ही छात्र का नाम, फोटो, माता-पिता व स्कूल का नाम, पंजीयन नंबर सहित पूरी जानकारी आ जाएगी। इसके जरिए फर्जी परीक्षार्थियों की पहचान आसानी से हो सकेगी।

पेपर डिस्ट्रीब्यूशन नियम में बदलाव

मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल ने नकल पर रोक लगाने के लिए पेपर डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम में बदलाव किया है। परीक्षा कक्षों तक पेपर पहुंचने की पूरी प्रक्रिया की रियल टाइम मॉनिटरिंग होगी। प्रश्न पत्रों को थाने से परीक्षा केंद्र तक पहुंचाने की जिम्मेदारी कलेक्टर प्रतिनिधि की होगी। इस बार से प्रश्नपत्र का पैकेट परीक्षा केंद्र में ही खोला जाएगा। इसके साथ ही इस बार से परीक्षा कंट्रोल रूम में लोक शिक्षण संचालनालय के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। इस बार परीक्षा ड्यूटी में तैनात शिक्षक और अधिकारी मोबाइल का प्रयोग नहीं कर सकेंगे। इस बार परीक्षा केंद्राध्यक्ष भी अपने पास मोबाइल नहीं रख सकेंगे। बोर्ड परीक्षाएं सायबर सेल की निगरानी में होगी।