H

जेल में केजरीवाल ने 3 किताबें मंगवाने का किया अनुरोध, 15 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ने पर रखी डिमांड

By: Sanjay Purohit | Created At: 01 April 2024 04:07 PM


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट द्वारा 15 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। अब उन्हें 15 अप्रैल तक दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा जाएगा जहां जाने से पहले उन्होंने तीन किताबों की मांग की है।

banner
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट द्वारा 15 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। अब उन्हें 15 अप्रैल तक दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा जाएगा जहां जाने से पहले उन्होंने तीन किताबों की मांग की है। इसके चलते केजरीवाल ने अपने वकीलों के जरिए एक याचिका दायर की है जिसमें उन्होंने इन तीन किताबों की मांग को कोर्ट के सामने रखा। आपको जानकर हैरानी होगी कि इन तीन किताबों में भगवदगीता, रामायण और वरिष्ठ पत्रकार नीरजा चौधरी की किताब 'हाउ प्राइम मिनिस्टर डिसाइड' शामिल हैं। इसके अलावा उन्होंने जेल में अपनी जरूरी दवाओं की भी मांग की है। इसी बीच उनकी सुरक्षा को धयान में रखते हुए तिहाड़ की जेल नंबर दो, नंबर तीन और नंबर पांच के सभी जेल सुपरिटेंडेंट को अलर्ट पर रखा गया है।

किस सेल में रहेंगे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल?

अभी तक ये तय नहीं हुआ है कि केजरीवाल को तिहाड़ के किस बैरक में रखा जाएगा। इससे पहले आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को दो नंबर जेल से पांच नंबर जेल में शिफ्ट किया गया है। मनीष सिसोदिया को जेल नंबर एक में रखा गया है। वहीं, सतेंद्र जैन को तिहाड़ जेल की सात नंबर जेल में रखा गया है। के। कविता को लेडी जेल नंबर 6 में रखा गया है। तिहाड़ परिसर में कुल नौ जेल हैं, जिनमें लगभग 12 हजार कैदी हैं। इस जेल में ईडी और सीबीआई से संबंधित कैदियों को रखा जाता है।

शराब घोटाले में गिरफ्तार हुए थे केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ईडी ने लगभग दो घंटे की पूछताछ के बाद 21 मार्च को उनके आधिकारिक आवास से गिरफ्तार किया था। दिल्ली शराब घोटाले में उन्हें राउज एवेन्यू कोर्ट ने 28 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया था। हालांकि अपनी गिरफ्तारी के बाद भी अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं दिया है। आम आदमी पार्टी के नेताओं का कहना है कि वह दिल्ली के मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जरूरत पड़ने पर जेल से सरकार चलाएंगे।