H

लोकसभा चुनाव पर मोदी सरकार की नजर, जून 2024 तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने पर फैसला संभव

By: Ramakant Shukla | Created At: 29 August 2023 02:00 AM


इस वर्ष के आखिर में कई बड़े राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाला है तो 2024 में लोकसभा चुनाव है। ऐसे में मोदी सरकार देश के 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को छह महीने के लिए और चुनाव संपन्न होने तक जून 2024 तक के लिए एक्सटेंड कर सकती है जिससे पीएम मोदी का लगातार तीसरी दफा प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ हो सके।

bannerAds Img
इस वर्ष के आखिर में कई बड़े राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाला है तो 2024 में लोकसभा चुनाव है। ऐसे में मोदी सरकार देश के 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को छह महीने के लिए और चुनाव संपन्न होने तक जून 2024 तक के लिए एक्सटेंड कर सकती है जिससे पीएम मोदी का लगातार तीसरी दफा प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ हो सके। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को जून 2024 तक के लिए एक्सटेंड किया जा सकता है जिसकी मियाद 31 दिसंबर 2023 को खत्म हो रही है। रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल इस विषय पर चर्चा की जा रही है जो कि प्राइवेट है लेकिन इस पर आखिरी फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से आने वाले दिनों में लिया जाएगा।

जून 2024 तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने पर फैसला संभव

अधिकारियों ने बताया कि इस योजना को एक्सटेंड करने पर बहुत ज्यादा खर्च नहीं आएगा और इस खर्च को बजट आवंटन के जरिए वहन कर लिया जाएगा। दरअसल प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना पहले 31 दिसंबर 2022 को खत्म हो रही थी। लेकिन योजना को नए स्वरुप में एक जनवरी 2023 से शुरुआत की गई जिसके तहत अंत्योदय अन्न योजना और प्राइमरी हाउसहोल्ड लाभार्थियों को मुफ्त अनाज उपलब्ध कराने के लिए नए एकीकृत खाद्य सुरक्षा स्कीम को एक जनवरी 2023 से रोलआउट किया गया। योजना के तहत 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त अनाज देने की घोषणा की गई। बाद में सरकार ने कहा कि इस योजना का नाम भी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना रखा गया है। इस योजना के तहत 31 दिसंबर 2023 तक मुफ्त अनाज दिया जाना है। लेकिन लोकसभा चुनाव को देखते हुए योजना को 30 जून 2024 तक के लिए एक्सटेंड किया जा सकता है। वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस विषय पर कुछ भी नहीं कहा है। कोरोना महामारी के पहले चरण में 2020 में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को लॉन्च किया गया था। बाद में योजना को एक्सटेंड कर दिया गया। 10 राज्यों में जो विधानसभा चुनाव हुए उसमें से 7 में सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी को इसका फायदा हुआ। इस वर्ष के आखिर में पांच राज्यों में विधासनभा चुनाव होने हैं। दिसंबर में जब योजना को नए कलेवर के साथ लॉन्च करने का ऐलान किया गया तब सरकार ने कहा था कि 2023 में खाद्य सुरक्षा कानून और दूसरे वेलफेयर स्कीम के तहत मुफ्त अनाज उपलब्ध कराने पर सरकार के खजाने पर 2 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा पर योजना का गरीबों को बड़ा फायदा पहुंचेगा।

Read More: मध्यप्रदेश में अब 30 की जगह 15 वर्ष में प्रोफेसर बन सकेंगे चिकित्सक, सीएम शिवराज ने कहा