H

Rajasthan Politics: रोत ने मांगा शिक्षा मंत्री का इस्तीफा, मदन दिलावर ने कहा- 'आदिवासी बहकावे में नहीं आएंगे'

By: payal trivedi | Created At: 23 June 2024 04:36 AM


खुद को हिंदू नहीं मानने वाले आदिवासियों के डीएनए टेस्ट करवाने वाले बयान पर वार-पलटवार चल रहा है। शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने शनिवार को कहा कि आदिवासी हमारे हिंदू समाज के अभिन्न अंग हैं और कुछ लोगों के बरगलाने में नहीं आएंगे।

bannerAds Img
Jaipur: खुद को हिंदू नहीं मानने वाले आदिवासियों के डीएनए टेस्ट करवाने वाले बयान पर वार-पलटवार चल रहा है। शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने शनिवार को कहा कि आदिवासी हमारे हिंदू समाज के अभिन्न अंग हैं और कुछ लोगों के बरगलाने में नहीं आएंगे। ये श्रेष्ठ समाज हैं और ये उनके (बाप पार्टी) चक्कर में नहीं आएंगे। उधर, बीएपी सांसद राजकुमार रोत ने दिलावर के इस्तीफे की मांग की। साथ ही प्रदेश भर में अभियान चलाकर हर आदिवासी के घर से डीएनए टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल सीएम भजनलाल शर्मा और मदन दिलावर को भेजने की घोषणा की है।

आदिवासी इनके चक्कर में नहीं आएंगे

शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने उदयपुर में पटेल सर्किल स्थित भाजपा कार्यालय में मीडिया को संबोधित किया। दिलावर ने बाप पार्टी के 'आदिवासी हिंदू नहीं हैं' वाले बयान पर कहा- आदिवासी हमारे हिंदू समाज के अभिन्न अंग हैं और कुछ लोगों के बरगलाने में नहीं आएंगे। ये श्रेष्ठ समाज हैं और ये उनके (बाप पार्टी) चक्कर में नहीं आएंगे। आदिवासी समाज के लोग हमारे श्रेष्ठ लोग हैं, आज तक वृक्षों की रक्षा की है और वहां से हमें प्राणवायु मिली है। सांसद राजकुमार रोत के 'शिक्षा मंत्री को मानसिक जांच की जरूरत' वाले के बयान पर दिलावर ने कहा- वो कुछ भी बोल सकते हैं।

प्राइवेट स्कूल समाज का भला कर रहे हैं

दिलावर ने निजी स्कूलों की फीस के नियंत्रण के सवाल पर कहा- राज्य में 97 प्रतिशत से ज्यादा ऐसे प्राइवेट स्कूल हैं जो केवल सेवा कर रहे हैं। उनके पास पर्याप्त धन नहीं है। वे 5 से 10 हजार रुपए साल की फीस ले रहे हैं। उनका घर चलाना मुश्किल हो रहा है। ये पढ़ाकर समाज का भला कर रहे हैं और सरकार की मदद कर रहे हैं। कुछ 2 से 3 प्रतिशत हैं, जिनसे आग्रह करेंगे। वे लोग उतनी ही फीस लें जो सब दे सकें। उन्होंने कहा कि सरकार राजस्थान में 82 लाख और निजी स्कूल वाले 85 लाख बच्चों को पढ़ा रहे हैं। जो ज्यादा फीस ले रहे हैं, उनको समझाएंगे और नहीं मानेंगे तो कानून का सहारा लेंगे।

पहली कक्षा से अंग्रेजी माध्यम शुरू करने थे

महात्मा गांधी स्कूलों को लेकर शिक्षा मंत्री ने कहा- यह कांग्रेस का मूर्खतापूर्ण निर्णय था। मैं अंग्रेजी स्कूलों के विरोध में नहीं हूं। स्कूल खोल दिए तो अंग्रेजी मीडियम के टीचर देने चाहिए थे। कक्षा 5 में हिंदी मीडियम में पढ़ने वाला 6 में कैसे इंग्लिश मीडियम में पढ़ेगा। राजस्थान के बच्चों की शिक्षा को बर्बाद करने का काम कांग्रेस सरकार ने किया। इनको कक्षा 1 से अंग्रेजी कक्षाएं शुरू करनी थी जो न्यायसंगत था। दिलावर ने डोटासरा पर कहा कि राजस्थान की धरती पर गोविंद सिंह डोटासरा से भ्रष्ट व्यक्ति कोई नहीं है। उन्होंने पेपर बिकवाए, राजीव गांधी स्टडी सर्किल में रखकर चाबी दी। जब जांच एजेंसियों की सुई उनकी तरफ घूम रही है तो बौखला रहे हैं और बचने की कोशिश कर रहे हैं। जांच एजेंसियां लगातार बढ़ रही है और वह दिन दूर नहीं है, जब डोटासरा जेल की हवा खाएंगे।

रोत बोले- हर आदिवासी के घर से ब्लड सैंपल डीएनए टेस्ट के लिए भेजेंगे

बीएपी सांसद राजकुमार रोत ने मदन दिलावर के इस्तीफे की मांग की है। उन्होंने प्रदेश भर में अभियान चलाकर हर आदिवासी के घर से डीएनए टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल सीएम भजनलाल और मदन दिलावर को भेजने की घोषणा की है। रोत ने कहा- राजस्थान के शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने आदिवासियों को अपमानित करने वाली भाषा का इस्तेमाल किया है। दिलावर ने यहां तक कह दिया कि आदिवासियों का डीएनए टेस्ट करवाइए, उनके बाप कौन हैं। बाप की बौखलाहट से ही आप इस तरह के बयान दे रहे हो, हमारी पार्टी का नाम भी बाप है। रही बात डीएनए की, तो यह पूरे देश के आदिवासियों के लिए आपने चैलेंज दिया है, बीजेपी को यही भारी पड़ेगा। हम लोग हमारे ब्लड का सैंपल मदन दिलावर और राजस्थान के मुख्यमंत्री को भेजेंगे। सांसद रोत ने कहा- मदन दिलावर माफी मांगे, इस्तीफा दें, नहीं तो बीजेपी उन्हें निष्कासित करें। अगर ऐसा नहीं किया तो हम देश भर में अभियान चलाएंगे, हर आदिवासी के घर से ब्लड सैंपल, बाल, नाखून के सैंपल लेकर सीएम को भेजेंगे। उनकी जिम्मेदारी बनती है कि डीएनए टेस्ट अवश्य करवाएं। हम तो डीएनए टेस्ट के लिए सैंपल दे रहे हैं, दिलावर भी अपना टेस्ट करवा लें।

बिहार में भी इसी तरह का हुआ था विवाद

बिहार में भी इसी तरह का विवाद हुआ था। बिहार में जब नीतीश कुमार एनडीए का साथ छोड़कर आरजेडी के साथ गठबंधन में गए तब पीएम मोदी ने कुछ लोगों का डीएनए गड़बड़ होने का बयान दिया था। नीतीश कुमार ने इस बयान को बिहार के डीएनए गड़बड़ बताने से जोड़कर पीएम मोदी को बिहार के हर घर से ब्लड सैंपल भेजने का अभियान चलाया था। इस अभियान पर खूब सियासी वार पलटवार हुए थे। बिहार की तर्ज पर ही अब राजकुमार रोत ने भी डीएनए टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल भेजने की घोषणा कर सियासत को गर्मा दिया है।