H

Rajasthan News: बेनीवाल के बाद एक और विधायक को भी खतरा? लॉरेंस गैंग ने किया ये बड़ा दावा, एसपी ने किया चौंकाने वाला खुलासा

By: payal trivedi | Created At: 30 January 2024 01:13 PM


पिछले साल दिसंबर में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

banner
Jaipur: पिछले साल दिसंबर में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना (Rajasthan News) के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने उस समय राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के हनुमान बेनीवाल समेत कई नेताओं की सुरक्षा बढ़ाई थी। डर था कि लॉरेंस गैंग इन नेताओं पर हमला कर सकता है। गोगामेड़ी की हत्या के दो महीने के बाद पुलिस इंटेलिजेंस को इनपुट मिला कि नागौर में तीन शूटर हनुमान बेनीवाल पर हमले की साजिश रच रहे हैं। इसके बाद बेनीवाल के घर के बाहर 8 क्यूआरटी के कमांडो तैनात कर दिए। बेनीवाल के अलावा लाडनूं विधायक मुकेश भाकर की भी सिक्योरिटी बढ़ाई गई है।

लॉरेंस गैंग ने सोशल मीडिया पर किया ये दावा मामला चर्चा में आने के बाद लॉरेंस गैंग के रोहित गोदारा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट जारी कर दावा किया कि- ‘बेनीवाल उनके बड़े भाई की तरह है। पुलिस अधिकारी प्रमोशन लेने के लिए हमले की झूठी अफवाह फैला रहे है।’ बेनीवाल ने बताया कि ‘पुलिस अधिकारियों ने सुरक्षा तो बढ़ा दी, लेकिन यह नहीं बताया कि खतरा किससे है, कौन उनकी जान लेना चाहता है।’इधर, नागौर एसपी नारायण टोगस ने चौंकाने वाला बयान दिया। उन्होंने कहा- न उन्हें सिक्योरिटी देने के मामले में जानकारी है और न ही शूटर के बारे में।

5 दिसंबर को हुई थी गोगामेड़ी की हत्या

जयपुर में 5 दिसंबर को दिनदहाड़े दो शूटर ने राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या कर दी थी। गोगामेड़ी की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर हमले की जिम्मेदारी लॉरेंस गैंग ने ली थी। लॉरेंस गैंग की तरफ से हमले की जिम्मदेारी रोहित गोदारा ने ली थी। गोगामेड़ी की हत्या के बाद रोहित गोदारा के नाम से कुछ फर्जी पोस्ट भी वायरल हुई थी। इसमें राजपूत नेता के बाद एक जाट नेता की हत्या की बात कही जा रही थी। अंदेशा जताया जा रहा था कि लॉरेंस गैंग जाट नेता हनुमान बेनीवाल पर हमला कर सकती है। पुलिस ने बेनीवाल की सुरक्षा भी बढ़ा दी थी लेकिन बाद में पता लगा कि यह पोस्ट फर्जी थी। इस पूरे घटनाक्रम के दो महीने बाद अब पुलिस को हनुमान बेनीवाल पर हमले का इनपुट मिला है। पुलिस को इनपुट मिला कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल पर हमले के लिए तीन शूटर नागौर आए हैं। ये शूटर बेनीवाल पर नागौर में या किसी सार्वजनिक स्थान पर लोगों से मिलते समय भीड़ में हमला कर सकते हैं।

बेनिवाल के पास अधिकारी का आया था इनपुट

अधिकारी ने बताया कि उनके पास इंटेलिजेंस का इनपुट (Rajasthan News) आया है कि आपकी जान को खतरा है। अधिकारी ने बेनीवाल को अलर्ट रहते हुए कुछ दिन सार्वजनिक स्थान पर न जाने और लोगों से न मिलने के लिए कहा। इस पर हनुमान बेनीवाल ने बताया कि उनको कई बार जान से मारने की धमकी मिल चुकी है। धमकियों के कारण वे लोगों से मिलना और उनकी सुनवाई करना बंद नहीं कर सकते हैं।

लॉरेंस गैंग ने कहा- बेनीवाल हमारे बड़े भाई

हाल ही में मामले को लेकर लॉरेंस गैंग के रोहित गोदारा एक सोशल मीडिया पोस्ट सामने आई। पोस्ट में लिखा था- ‘राम राम सभी भाइयों को, भाइयों मैं रोहित गोदारा, भाइयों आज मुझे न्यूज चैनल के माध्यम से पता चला है कि मेरे और लॉरेंस भाई के नाम से जो हमारे माननीय विधायक हनुमान बेनीवाल जी को और और भी कई राजनेताओं को धमकी दी जा रही है। हनुमान बेनीवाल जी तो हमारे बड़े भाई हैं। जो इंसान न रात देखता न दिन हर गरीब आदमी और किसान भाइयों की मदद करता है। उनसे हमारी कोई दुश्मनी नहीं है।’

‘पुलिस अधिकारियों ने प्रमोशन के लिए झूठी अफवाह फैलाई’

पोस्ट में रोहित गोदारा ने पुलिस अधिकारियों पर ही झूठी अफवाह फैलाने का आरोप लगा दिया। उसने लिखा कि ‘भाइयों यह सब राजस्थान पुलिस के कुछ पदाधिकारी मिल कर अपने (स्टार) और अपना प्रमोशन करवाना चाहते हैं। ये राजनेताओं को झूठी गार्ड देकर,सरकार के सामने झूठा माहौल बना रहे हैं। फिर बोलेंगे कि हमने यह किया वह किया। हमें इनपुट था। ये जितने भी बड़े अधिकारी हैं ये सब सरकार के सामने झूठी अफवाह फैला कर अपना कद बढ़ाना चाहते हैं। ऐसे अधिकारियों से सरकार और राजनेता सावधान रहें।’

‘दुश्मनों पर हमले जारी रहेंगे’

गोदारा ने अपनी पोस्ट में आगे और लोगों पर भी हमले की चेतावनी दी। पोस्ट में लिखा कि ‘हमारी किसी भी जाति धर्म विशेष से कोई भी लड़ाई नहीं है और यह जो लोग अफवाह फैला रहे हैं कि पहले जाट मारा, अब एक राजपूत मारा। ऐसा हमारा जाति धर्म को लेकर न कोई टारगेट था न कभी जिंदगी में होगा। हमारे लिए सर्व समाज एक है। जो हमारे दुश्मन हैं वह तैयार रहें, वह कोई भी जाति धर्म का हो बिल्कुल मारेंगे...समय लग सकता है... लेकिन माफी नहीं है।’ अब तक बेनीवाल के साथ पीएसओ के गार्ड तैनात रहते थे। उन्हें पुलिस टीम एस्कॉर्ट करती है। अब उनके घर के बाहर कमांडो भी तैनात हैं।

क्या बोले हनुमान बेनिवाल

हनुमान बेनीवाल ने बताया कि ‘मैंने प्रदेश की जनता के लिए कई बार डकैत, गैंगस्टर और बड़े अपराधियों के खिलाफ आवाज उठाई है। मेरी जान को तो हर समय खतरा रहता है, लेकिन आज तक मुझे पर्सनली किसी ने फोन करके धमकी नहीं दी। हां हमले का प्रयास कई बार किया है।’ ‘मैंने पूछा भी था कि मुझ पर हमला कौन करना चाहता है, लेकिन पुलिस अधिकारियों ने नहीं बताया कि मुझे किससे खतरा है। पुलिस को यह तो बताना चाहिए कि कौन मुझे मारना चाहता है।’ ‘जनप्रतिनिधि पर अगर हमले की साजिश रची जा रही है तो प्रदेश के सीएम को आगे आकर बोलना चाहिए कि कौन हमला करना चाहता है और वो सुरक्षा के लिए क्या कर रहे हैं।’

इधर, विधायक मुकेश भाकर की भी सुरक्षा बढ़ाई

हनुमान बेनीवाल के बाद पुलिस ने लाडनूं विधायक मुकेश भाकर (Rajasthan News) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। भाकर के लाडनूं और जयपुर आवास पर क्यूआरटी (क्विक रेस्पोंस टीम) के कमांडो तैनात कर दिए हैं। इससे पहले भाकर की सुरक्षा में दो गनमैन तैनात थे। उसने पैसों की डिमांड करते हुए भाकर को जान से मारने की धमकी दी। भाकर के मोबाइल पर दो नंबरों से कई बार धमकी भरे कॉल किए गए। पुलिस ने भाकर की रिपोर्ट के बाद मामला दर्ज किया था। जिस नंबर से कॉल किया गया था वो नंबर पश्चिम बंगाल का था।

बेनीवाल पर पहले भी हो चुके हैं हमले

आठ साल पहले जयपुर के झोटवाड़ा थाना क्षेत्र में हनुमान बेनीवाल परकुछ लोगों ने हमला किया था। बेनीवाल उस समय जयपुर से नागौर जाने के लिए अपनी गाड़ी में रवाना हुए थे। झोटवाड़ा में जुलूस के रूप में मौजूद करीब 40 से 50 लागों ने नारेबाजी करते हुए उनकी गाड़ी पर हमला कर दिया था। हाथ में लाठी और सरिए लिए लोगों ने बेनीवाल की गाड़ी के कांच फोड़ दिए थे। बेनीवाल ने तब आरोप लगाया था कि- यह हमला करणी सेना वालों ने किया था। उन्होंने हमला करते समय गैंगस्टर आनंदपाल के नारे भी लगाए थे।

2020 में बेनिवाल पर हुआ था चाकू से हमला

जनवरी 2020 को बाड़मेर में टिड्‌डी प्रभावित किसानों को राहत दिलाने के लिए बाड़मेर में लोगों ने कलेक्ट्रेट का घेराव कर रखा था। इस दौरान हनुमान बेनीवाल भी मौके पर थे। वहां भीड़ में एक सिरफिरे युवक ने बेनीवाल पर चाकू से हमले का प्रयास किया। वहां मौजूद लोगों ने युवक को पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया था।

100 से ज्यादा लोगों ने कांच तोड़े, फायर किए

केंद्रीय राज्य मंत्री कैलाश चौधरी (Rajasthan News) और रालोप सुप्रीमो हनुमान बेनीवाल 12 नवंबर 2019 को बायतु में तेजाजी के धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेने जा रहे थे। इस दौरान रास्ते में उनके काफिले पर करीब 100 से ज्यादा लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया। इस दौरान हमलावरों ने उनकी गाड़ियों के कांच तोड़ दिए और फायर भी किए।