H

मालदीव से विवाद के बीच विदेश मंत्री जयशंकर बोले - पड़ोसियों को एक-दूसरे की जरूरत पड़ती है

By: Durgesh Vishwakarma | Created At: 31 January 2024 11:14 AM


विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि, भारत की अधिक क्षमता, उसकी अपनी रुचि और प्रतिष्ठा आज इस बात की गारंटी देती है कि, वह वास्तव में मुश्किल परिस्थितियों में मदद करता है।

banner
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि, भारत की अधिक क्षमता, उसकी अपनी रुचि और प्रतिष्ठा आज इस बात की गारंटी देती है कि, वह वास्तव में मुश्किल परिस्थितियों में मदद करता है। वहीं एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्री ने कहा कि, भारतीय नौसेना ने इस क्षेत्र में अपने 10 जहाज तैनात किए हैं। जयशंकर ने कहा कि, भारत की अधिक क्षमता, हमारा अपना हित और हमारी प्रतिष्ठा आज इस बात की गारंटी देती है कि, हम वास्तव में कठिन परिस्थितियों में मदद करें।

पड़ोसियों को एक-दूसरे की ज़रूरत होती है

विदेश मंत्री जयशंकर ने अपने इस बयान में आगे कहा कि, अगर हमारे पड़ोस में बुरी चीजें हो रही हैं और हम कहते हैं कि, मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है, तो हमें एक जिम्मेदार देश नहीं माना जाएगा। वहीं आगे मालदीव में 'इंडिया आउट' अभियान पर, प्रतिक्रिया देते हुए जयशंकर ने कहा कि, दिन के अंत में पड़ोसियों को एक-दूसरे की ज़रूरत होती है।

इतिहास और भूगोल बहुत शक्तिशाली ताकतें हैं

जयशंकर ने कहा कि, इतिहास और भूगोल बहुत शक्तिशाली ताकतें हैं। इससे कोई बच नहीं सकता। विशेष रूप से भारतीय युद्धपोत INS सुमित्रा ने सोमालिया के पूर्वी तट पर समुद्री डाकुओं द्वारा ईरानी ध्वज वाले मछली पकड़ने वाले जहाज पर हमला करने के बाद मछली पकड़ने वाले जहाज के 19 पाकिस्तानी चालक दल को बचाया। उन्होंने आगे कहा कि, आईएनएस सुमित्रा को सोमालिया के पूर्व और अदन की खाड़ी में समुद्री डकैती रोधी और समुद्री सुरक्षा अभियानों के लिए तैनात किया गया है। जहाज ने सोमवार को ईरानी मछली पकड़ने वाले जहाज इमान पर समुद्री डकैती के प्रयास को विफल कर दिया था।