H

एक्शन में NIA, तमिलनाडु में पाकिस्तानी संगठन से जुड़े 10 ठिकानों पर मारा छापा

By: Sanjay Purohit | Created At: 30 June 2024 08:53 AM


राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने रविवार को तमिलनाडु में रेड की. NIA ने हिज्ब उत तहरीर मामले में एक्शन लेते हुए 10 लोकेशन पर छापेमारी की. पकिस्तानी संगठन हिज्ब उत तहरीर से जुड़े संदिग्धों के ठिकानों पर NIA ने छापेमारी को अंजाम दिया.

bannerAds Img
राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने रविवार को तमिलनाडु में रेड की. NIA ने हिज्ब उत तहरीर मामले में एक्शन लेते हुए 10 लोकेशन पर छापेमारी की. पकिस्तानी संगठन हिज्ब उत तहरीर से जुड़े संदिग्धों के ठिकानों पर NIA ने छापेमारी को अंजाम दिया. साथ ही इस मामले में NIA ने 2021 में एक शख्स की गिरफ्तारी भी की थी.

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने ISIS से जुड़े चरमपंथी इस्लामी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर की जांच के तहत रविवार सुबह तमिलनाडु में यह छापेमारी अंजाम दी. एजेंसी ने चेन्नई, त्रिची, पुदुकोट्टई, तंजावुर, इरोड और थिरुप्पुर सहित कई स्थानों पर छापे मारे. यह छापेमारी मुख्य रूप से दो संदिग्धों पर केंद्रित थी. पहला- अब्दुल खान, जिसने पुदुक्कोताई में मंडैयुर के पास खेत किराए पर लिया था और दूसरा अहमद, जो तंजावुर में कुलंधई अम्माल नगर का निवासी था.

हिज्ब-उत-तहरीर केस क्या है?

हिज्ब-उत-तहरीर एक इस्लामी संगठन है. जिस पर पहली बार एनआईए ने 2021 में एक्शन लिया और छापेमारी की थी. यह छापेमारी मदुरै हिज्ब-उत-तहरीर मॉड्यूल मामले से संबंधित थी. जिस पर तमिलानाडु की कई लोकेशन पर NIA ने छापेमारी की थी. NIA ने छापेमारी के बाद एक व्यक्ति को गिरफ्तार भी किया गया था.

2021- 2022 में भी लिया NIA ने एक्शन

2021 के संदिग्ध, मोहम्मद इकबाल ने कथित तौर पर अपने फेसबुक अकाउंट, का इस्तेमाल ऐसी चीज पोस्ट करने के लिए किया, जो एक विशेष समुदाय के खिलाफ थी, और धार्मिक हिंसा को भड़काने का काम कर रहा था. 2021 में एक व्यक्ति की गिरफ्तारी के बाद मार्च 2022 में, एनआईए ने हिज्ब-उत-तहरीर के खिलाफ फिर से एक्शन लेते हुए दो आरोपी- तिरुवरुर जिले के मन्नारगुडी निवासी बावा बहरुदीन उर्फ मन्नै बावा और तंजावुर जिले के कुंभकोणम निवासी जियावुद्दीन बकावी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की. जांच के बाद सामने आया कि दोनों आरोपी हिज्ब-उत-तहरीर के सदस्य थे.