H

चुनाव में देवी-देवताओं के अपमान पर देखना होगा कोर्ट का रास्ता: संस्कृति बचाओ मंच ने राजनीतिक दलों को दी चेतावनी

By: Richa Gupta | Created At: 19 March 2024 05:44 PM


चुनावी जुबानी जंग में देवी-देवताओं और भगवान के नाम के साथ पोस्टर से नवाजा तो कोर्ट का रास्ता देखना पड़ेगा। संस्कृति मंच ने यह चेतावनी राजनीतिक दलों को जारी की है।

banner
चुनावी जुबानी जंग में देवी-देवताओं और भगवान के नाम के साथ पोस्टर से नवाजा तो कोर्ट का रास्ता देखना पड़ेगा। संस्कृति मंच ने यह चेतावनी राजनीतिक दलों को जारी की है। उनका कहना है कि देवी देवताओं और भगवान के नाम के साथ कर्म की मनुष्य से तुलना न करें। वहीं इसे लेकर बीजेपी और कांग्रेस ने एक दूसरे पर निशाना साधा हैं।

चंद्रशेखर तिवारी ने ईशा निंदा कानून की मांग की

दरअसल, चुनावों में इस तरह के पोस्टर और बयानबाजी लगातार सामने आती रहती है। माननीय नेता जी अपने सियासी फायदे के लिए सनातन का अपमान करते रहते हैं। इसे लेकर संस्कृति बचाव मंच ने राजनीतिक पार्टियों को चेतावनी दी है। जिसमें कहा गया कि ऐसे मामलों को नामजद नेताओं के साथ न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा। साथ ही नेता और उनके समर्थक की सीमा सनातन के सम्मान के दायरे में रखने की चेतावनी दी है। वहीं संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने ईशा निंदा कानून की मांग की है।

धर्म आस्था का विषय, राजनीति का नहीं

कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने कहा कि BJP ही धर्म के साथ भगवान और देवी देवताओं के नाम का सियासी सहारा लेती है। पॉलिटिक्स हमेशा राजनीतिक धर्म, इंसानियत का धर्म, मानवता का धर्म पर होना चाहिए। आज की राजनीति में सिर्फ एक ही पार्टी है धर्म देवी देवताओं के दम पर चल रही है। राजनीतिक और आर्थिक दोनों तौर पर धर्म दुरुपयोग के साथ धन में इजाफा किया है, जो नहीं होना चाहिए। केके ने आगे कहा कि मैं एक ही पार्टी को छोड़कर अन्य पार्टी से भी अपनी पार्टी से भी आग्रह करूंगा और इस देश की जागरूक कहीं जाने वाली जनता से भी आग्रह करना चाहूंगा कि अब बहुत हुआ, ऐसे गंदे मुद्दों से उठाकर निम्न स्तरीय सोच से उठकर, सोच बदलनी होगी। देश, लोकतंत्र और राजनीति के पवित्र मानस मूल्य के हित में अपने दृष्टिकोण और विचार को भी समावेशित करें। हमारा धर्म प्रधान देश है, धर्म आस्था का विषय है, राजनीति का विषय नहीं है। राजनीति के घोड़े पर पवित्र धर्म को सवार होने नहीं देना चाहिए।

कांग्रेस ने हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति की

प्रदेश मीडिया प्रभारी आशीष अग्रवाल ने कहा कि बीजेपी के लिए धर्म कभी राजनीति का विषय नहीं रहा, आस्था का विषय ही रहा है। इसलिए जब-जब हमारी सरकार रही हमने धर्म के वैभव को न सिर्फ बरकरार रखा बल्कि संवारा भी, कई मामलों में न्याय पर भी पहुंचा। कांग्रेस ने हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति की, धर्म को कांग्रेस ने राजनीति का हिस्सा बनाया। इस देश की जनता सनातनी है, धर्म के साथ सियासी खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। ऐसे काम करने वाले विपक्ष को जनता ने उनके मुकाम पर पहुंचा दिया हैं।