H

बारबाडोस में थम गया तूफान, Team India के चैंपियंस आज शाम ट्रॉफी लेकर विशेष चार्टर से भारत के लिए होंगे रवाना

By: payal trivedi | Created At: 02 July 2024 04:32 AM


भारतीय टीम ने टी20 विश्व कप 2024 के फाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर चौथी बार विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया। चैंपियन बनने के बाद भारतीय टीम के प्लेयर्स जहां जल्द-से-जल्द ट्रॉफी लेकर भारत पहुंचना चाहते थे, तो वहीं बारबाडोस के तूफान ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेरा।

bannerAds Img
Sports: भारतीय टीम ने टी20 विश्व कप 2024 के फाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर चौथी बार विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया। चैंपियन बनने के बाद भारतीय टीम के प्लेयर्स जहां जल्द-से-जल्द ट्रॉफी लेकर भारत पहुंचना चाहते थे, तो वहीं बारबाडोस के तूफान ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेरा।

बारबाडोस में रविवार को तेज बारिश ने ले लिया तूफान का रूप

बारबाडोस में रविवार की रात को काफी तेज बारिश शुरू हुई, जो सोमवार सुबह तेज तूफान में बदल गई। इस तूफान को देखते हुए बारबाडोस की सरकार ने रविवार शाम 6 बजे से एयरपोर्ट को बंद कर दिया और रात आठ बजे से ही लॉकडाउन लगा दिया था। इसके बाद हर कोई अपने होटर और घर के अंदर ही रहे। बारबाडोस में तूफान थम चुका है और भारतीय टीम आज शाम 6 बजे (बारबाडोस लोकल समय) से दिल्ली के लिए चार्टर से रवाना होगी।

BCCI ने टीम के लिए विशेष चार्टर कि व्यवस्था की

दरअसल, भारतीय टीम मंगलवार को शाम छह बजे बारबाडोस (लोकल समय) से दिल्ली के लिए चार्टर से रवाना होगी। बीसीसीआई ने विशेष चार्टर से उनके भारत पहुंचने की व्यवस्था की है। यहां अब तूफान थम गया है। ऐसे में भारतीय समयानुसार टीम इंडिया शाम 7 बजे के आस-पास पहुंच जाएगी। फैंस भारतीय टीम का जोरदर स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट पर पहले से काफी बेताब हैं। इससे पहले बीसीसीआई सचिव जय शाह ने कहा था कि रविवार को दोपहर ही उन्हें निकलना था, लेकिन इस चक्रवात के कारण उन्होंने टीम के साथ ही जाने का फैसला लिया। मैं टीम को अकेले छोड़कर नहीं जा सकता था। टीम को दूसरे चार्टर से बाद में जाना था।

बारबाडोस में बेरिल चक्रवात ने मचाई थी आफत

बता दें कि बारबाडोस में जिस चक्रवात ने आफत मचाई, उसका नाम बेरिल है। इस तूफान में तेज बारिश और तेज हवाएं महसूस की गई। तूफान 150 मील प्रति घंटे (240 किलोमीटर प्रति घंटे) तक की हवाएं चली। इस तूफान में कई लोगों के घरों की छत तक उड़ गई। इस पर राष्ट्रीय तूफान केंद्र ने कहा कि ये बेहद खतरनाक और जानलेवा स्थिति हैं। इससे पहले कैरेबियाई क्षेत्र में 20 साल पहले ऐसा कोई भयंकर तूफान आया था, जिसका नाम इवान था।