H

भारत ने अश्वगंधा के बैन पर उठाए सवाल, डेनमार्क यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट को बताया गलत

By: Sanjay Purohit | Created At: 06 July 2024 11:08 AM


आयुष मंत्रालय ने अश्वगंधा पर गलत रिपोर्ट को लेकर वैज्ञानिकों का एक पैनल तैयार किया है, जिसमें पद्मभूषण प्रो. डॉ. शिव कुमार सरीन, डॉ. राजेश खड़गावत, डॉ. भूषण पटवर्धन शामिल हैं. यह समिति वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर अश्वगंधा के प्रभाव और इस पर लगाए गए प्रतिबंध को लेकर रिपोर्ट तैयार कर रही है.

bannerAds Img
भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने अश्वगंधा पर डेनमार्क सरकार के लगाए गए प्रतिबंध को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है. मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि अश्वगंधा पर टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी ऑफ डेनमार्क की रिपोर्ट मान्य नहीं हो सकती क्योंकि यह रिपोर्ट अधूरी है. इंडियन एक्सप्रेस से एक बातचीत में भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के सचिव राजेश कोटेचा ने कहा है कि डेनमार्क यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट पर फिर से विचार करने की जरूरत है. इस रिपोर्ट में अश्वगंधा के गुणों का ठीक से मूल्यांकन नहीं किया गया है.

आयुष मंत्रालय ने ये भी बताया कि साल 2020 से ही अश्वगंधा के प्रभाव के संबंध में 400 से अधिक सबूत आधारित रिसर्च पेपर प्रकाशित हो चुके हैं. मंत्रालय के मुताबिक डेनमार्क विवि की रिपोर्ट में वैज्ञानिकता का अभाव है. सवाल है बिना वैज्ञानिक तथ्यों के कैसे इस पर प्रतिबंध लगा दिया गया? इस प्रतिबंध से कई देशों में अश्वगंधा को लेकर आशंका गहरा गई है.

डेनमार्क यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट का खंडन

आयुष मंत्रालय ने बताया है मिसिसिपी विश्वविद्यालय, अमेरिका और भारत के वैज्ञानिकों ने डेनमार्क यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट का जोरदार खंडन किया है. पूरे मामले पर आयुर्वेद और इंटीग्रेटिव मेडिसिन के विज्ञान जर्नल में भी डेनमार्क यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया गया है. विज्ञान जर्नल में कहा गया है किसी अन्य पौधे की पत्तियों के दुष्प्रभाव के आधार पर अश्वगंधा पर प्रतिबंध लगाना उचित नहीं