H

छतरपुर:जिला अस्पताल के 50 बेड की क्षमता वाले बच्चा वार्ड में 120 बच्चे भर्ती

By: Sanjay Purohit | Created At: 02 April 2024 12:23 PM


गर्मी का मौसम शुरु हो गया है और शुरुआती दौर में ही गर्मी ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है। पिछले लगभग 15 दिनों के भीतर मौसम में तेजी से बदलाव हुआ है,

banner
छतरपुर. गर्मी का मौसम शुरु हो गया है और शुरुआती दौर में ही गर्मी ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है। पिछले लगभग 15 दिनों के भीतर मौसम में तेजी से बदलाव हुआ है, जिस कारण से छोटी आयु वाले बच्चे तेजी से बीमार हो रहे हैं। जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है, वैसे बीमार बच्चों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल के 50 बेड की क्षमता वाले वार्ड में करीब 120 बच्चे भर्ती पाए गए।

छोटे बच्चे ज्यादा प्रभावित

अस्पताल में भर्ती ज्यादातर बच्चों की उम्र 4 वर्ष के आसपास है और उन्हें सर्दी-जुकाम और उल्टी-दस्त की शिकायत है।जिला अस्पताल के चिकित्सक डॉ. रोशन द्विवेदी ने बताया कि जब भी मौसम में अचानक बदलाव होता है तब छोटी उम्र के बच्चे मौसमी बीमारी का शिकार हो जाते हैं। पिछले कुछ दिनों में तापमान में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है, जिस कारण से बच्चे बीमार हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिले का अधिकतम तापमान 41 डिग्री के आसपास तक पहुंचने लगा है और लोग गर्मी से हलकान हैं। मौसम में हुए इस बदलाव का सबसे ज्यादा असर छोटे बच्चों पर इसलिए दिखाई दे रहा है क्योंकि बच्चे बदलते मौसम में अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रखते।

बच्चों को धूप में न जाने दे

डॉ. द्विवेदी ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में बच्चों के अभिभावकों को उनका ध्यान रखना चाहिए। माता-पिता अपने बच्चों को धूप में न निकलने दें और यदि निकलते भी हैं तो शरीर को पूरा ढकने के बाद ही निकलने दें। इसके अलावा खान-पान का विशेष ध्यान रखें, बाहर के खाद्य पदार्थ खाने से परहेज करें और अधिकाधिक मात्रा में पानी का सेवन बच्चों को कराएं। इसके बाद भी अगर बच्चा बीमार होता है तो नजदीकी चिकित्सक से सलाह लेकर उपचार कराएं।