H

छिंदवाड़ा में कांग्रेस को बड़ा झटका, अमरवाड़ा विधायक कमलेश शाह बीजेपी में शामिल

By: Ramakant Shukla | Created At: 29 March 2024 06:46 PM


भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने प्रदेश की 29 में से 29 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है। इस बार भाजपा कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में सेंध लगाने पूरा जोर लगा रही है। यहां से एक के बाद एक नेताओं को भाजपा में शामिल किया जा रहा है। अब शुक्रवार को छिंदवाड़ा की अमरवाड़ा सीट से विधायक कमलेश शाह भाजपा में शामिल हो गए। शाह ने भाजपा में शामिल होने से पहले विधायक पद से इस्तीफा दे दिया। शाह अपने सोशल मीडिया अकाउंट के प्रोफाइल से कांग्रेस का नाम हटाकर मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। जिसके बाद उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली। शाह तीन बार के विधायक है। शाह के साथ उनकी धर्मपत्नी हरई नगर पालिका की पूर्व अध्यक्ष माधवी शाह, बहन जिला पंचायत सदस्य केसर नेताम ने भी भाजपा की सदस्यता ली। शाह की आदिवासी वोटर्स में अच्छी पकड़ है। इसे पूर्व सीएम कमलनाथ के लिए बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है।

banner
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने प्रदेश की 29 में से 29 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है। इस बार भाजपा कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में सेंध लगाने पूरा जोर लगा रही है। यहां से एक के बाद एक नेताओं को भाजपा में शामिल किया जा रहा है। अब शुक्रवार को छिंदवाड़ा की अमरवाड़ा सीट से विधायक कमलेश शाह भाजपा में शामिल हो गए। शाह ने भाजपा में शामिल होने से पहले विधायक पद से इस्तीफा दे दिया। शाह अपने सोशल मीडिया अकाउंट के प्रोफाइल से कांग्रेस का नाम हटाकर मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। जिसके बाद उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली। शाह तीन बार के विधायक है। शाह के साथ उनकी धर्मपत्नी हरई नगर पालिका की पूर्व अध्यक्ष माधवी शाह, बहन जिला पंचायत सदस्य केसर नेताम ने भी भाजपा की सदस्यता ली। शाह की आदिवासी वोटर्स में अच्छी पकड़ है। इसे पूर्व सीएम कमलनाथ के लिए बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है।

सीएम बोले- छिंदवाड़ा में सब गड़बड़ हैं

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव कमलेश शाह के भाजपा में शामिल होने पर छिंदवाड़ा के अन्य विधायकों को लेकर कहा कि कल किसने देखा है। आज कमलेश शाह ने ज्वॉइन किया है। पहले भी कहा था और आज भी कह रहा हूं छिंदवाड़ा में सब गड़बड़ है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि मोदी जी की नीतियों से प्रभावित होकर कांग्रेसी भाजपा में शामिल हो रहे हैं। आगे आगे देखिए होता है क्या?

मोदी लहर में भी भाजपा को नहीं मिली जीत

छिंदवाड़ा लोकसभा सीट पर भाजपा को 2014 में मोदी लहर के बावजूद जीत नहीं मिली थी। यहां से कमलनाथ ने 9 बार लोकसभा का चुनाव जीता और वह दो बार यहां से विधायक भी बनें। पिछली बार 2019 में छिंदवाड़ा ही एक मात्र सीट थी, जिसे भाजपा जीतने में असफल रही थी। 2023 के विधानसभा चुनाव में छिंदवाड़ा की सातों विधानसभा सीटें कांग्रेस ने जीती थी।