H

मानसून में स्वर्ग बन जाती हैं MP की ये जगह

By: Sanjay Purohit | Created At: 04 July 2024 08:34 AM


मानसून सीजन आए और घूमने की बात न हो, ये तो मुमकिन ही नहीं है। वहीं बात अगर देश के दिल मध्य प्रदेश की आए तो टूरिज्म के लिए दुनिया भर में मशहूर अजब-गजब एमपी की छटा को शब्दों में व्यक्त नही किया जा सकता।

bannerAds Img
मानसून सीजन आए और घूमने की बात न हो, ये तो मुमकिन ही नहीं है। वहीं बात अगर देश के दिल मध्य प्रदेश की आए तो टूरिज्म के लिए दुनिया भर में मशहूर अजब-गजब एमपी की छटा को शब्दों में व्यक्त नही किया जा सकता। क्योंकि एमपी टाइगर या चीता स्टेट के लिए ही नहीं बल्कि अपनी खूबसूरत वादियों के कारण भी जाना जाता है। पहाड़ों, पर्वतों, नदियों, झरनों को चारों ओर से घेरने वाली हरियाली की मखमली चादर मानसून की बारिश में जैसे संवर जाती है। ऐसे एक-दो नहीं बल्कि एमपी में कई जगह हैं, जो यहां स्वर्ग से भी सुंदर नजर आती हैं।

पचमढ़ी

सतपुड़ा यानी सात पहाड़ों की रानी है पचमढ़ी। मध्य प्रदेश का बेहद खूबसूरत एक हिल स्टेशन। यहां आकर आप खुद को नेचर के बेहद करीब पाते हैं। दूर-दूर तक घने जंगलों की हरी-भरी वादियां, सीना ताने खड़े पहाड़ों से गिरते पानी के सफेद झरनों की कलकल, पक्षियों की चहचाहट की आवाजें आपको स्वर्ग में होने के अहसास से भर देंगी।

मांडू

ऐतिहासिक धरोहरों के खजाने से भरा ये शहर खुशियों के शहर के नाम से भी जाना जाता है। राजा-रानी की प्रेम कहानियां सुनाते महलों में रानियों और दासियों के बीच चलने वाल् अट्टाहस, शरारत भरी हंसी करते ग्रुप की छवियां जहन में कहीं एक तस्वीर सी बनाने लगती हैं। वहीं महलों की दरो-दीवार के आसपास बहती झील मानसून सीजन में इसकी खूबसूरती में चार चांद लगा देती है

खजुराहो

यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में शामिल है खजुराहो। यहां के प्राचीन मंदिर इसे यूनेस्कों की धरोहर बनाते हैं। चारों ओर हरियाली और पानी के स्रोत मानसून में इसकी प्राकृतिक सुंदरता को दोगुना कर देते हैं।

भेड़ाघाट

संगमरमर की चट्टानों औऱ धुंआधार फॉल्स के लिए अपनी पहचान बनाने वाला भेड़घाट मध्य प्रदेश की संस्कारधानी जबलपुर में है। नर्मदा नदी पर बना ये धुंआदार फॉल्स आम दिनों में भी इतना ही खूबसूरत लगता है, जितना कि आप सोच सकते हैं। लेकिन मानसून में धुंआदार फॉल्स का दूधिया रंग आपको बेहद अट्रैक्ट करता है।