H

देवभूमि द्वारका में कांग्रेस को सबसे बड़ा झटका, 800 कार्यकर्ता बीजेपी में शामिल

By: Sanjay Purohit | Created At: 02 April 2024 01:46 PM


जामनगर की सांसद पूनमबेन मादम, राज्य के कैबिनेट मंत्री मुलुभाई बेरा और जिला भाजपा अध्यक्ष मयूरभाई गढ़वी ने खंभालिया में एक बैठक में सभी कांग्रेस नेताओं का स्वागत किया।

banner
लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी को एक के बाद एक नेता पार्टी छोड़ रहे हैं। गुजरात में भी कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। जामनगर की लोकप्रिय सांसद पूनमबेन मादम के कुशल नेतृत्व में और बीजेपी की विकासवादी विचारधारा के कारण कांग्रेस को एक बार फिर हलार क्षेत्र में बड़ा झटका लगा है। जामनगर जिले में कांग्रेस नेताओं के भाजपा में शामिल होने के बाद देवभूमि द्वारका जिले में इतिहास का सबसे बड़ा राजनीतिक परिवर्तन देखा गया है और जिले में कांग्रेस का लगभग पूरी तरह से सफाया हो गया है।

14 सरपंचों सहित 800 कांग्रेस कार्यकर्ता बीजेपी में शामिल

जिला कांग्रेस के महासचिव और तालुका पंचायत के विपक्ष के नेता सहित कई महत्वपूर्ण कांग्रेस नेता कांग्रेस से अलग होकर भगवा पार्टी में शामिल हो गए। भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं में द्वारका जिला कांग्रेस के महासचिव और जिला पंचायत सदस्य ईभाभाई करमूर, विपक्ष के नेता और तालुका पंचायत सदस्य और 14 सरपंचों सहित 800 कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हैं।

जामनगर में बन गया कांग्रेस मुक्त का माहौल : पूनमबेन मादम

जामनगर की सांसद पूनमबेन मादम, राज्य के कैबिनेट मंत्री मुलुभाई बेरा और जिला भाजपा अध्यक्ष मयूरभाई गढ़वी ने खंभालिया में एक बैठक में सभी कांग्रेस नेताओं का स्वागत किया। पूनमबेन मादम ने कहा, देश की तरह जामनगर लोकसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस मुक्त का माहौल बन गया है। भारत के लोगों ने भी देश को कांग्रेस से मुक्त करने का फैसला किया है। उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता हमारे प्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश को विकसित बनाने के लिए जुट हो गए हैं।

देवभूमि द्वारका में कांग्रेस को सबसे बड़ा झटका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विकासात्मक सोच और पूनमबेन मादम के कार्यों के कारण देवभूमि द्वारका जिले में कांग्रेस पार्टी को सबसे बड़ा झटका लगा है। दलबदल कर इन नेताओं ने कांग्रेस के नेतृत्व और उसकी विचारधारा में अपनी आस्था की कमी का स्पष्ट संकेत दिया है। इतने सारे कांग्रेस सदस्यों के दलबदल के कारण द्वारका जिले में कांग्रेस का अस्तित्व लगभग समाप्त हो गया है।