H

गुरुवार के दिन भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए अपनाएं ये उपाय

By: Richa Gupta | Created At: 11 July 2024 04:05 AM


गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। साथ ही प्रभु की कृपा प्राप्ति के लिए व्रत भी किया जाता है। धार्मिक मत है कि सच्चे मन से श्री हरि की पूजा कर खीर, केले और पंचामृत का भोग लगाने से धन संबंधी परेशानी भी होती है।

bannerAds Img
गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। साथ ही प्रभु की कृपा प्राप्ति के लिए व्रत भी किया जाता है। धार्मिक मत है कि सच्चे मन से श्री हरि की पूजा कर खीर, केले और पंचामृत का भोग लगाने से धन संबंधी परेशानी भी होती है। साथ ही सुख-शांति की प्राप्ति होती है। भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए गुरुवार के दिन विशेष रूप से उनका पूजन किया जाता है। यहां कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं जिनके माध्यम से आप भगवान विष्णु को आनंदित कर सकते हैं।

1. विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्र का पाठ

गुरुवार के दिन विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्र का पाठ करना बहुत पुण्यदायी माना जाता है। इस स्तोत्र में भगवान विष्णु के विभिन्न नामों का जप करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है।

2.तुलसी विवाह का पाठ

तुलसी भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है और तुलसी माता की पूजा करने से भगवान विष्णु शीघ्र प्रसन्न होते हैं।गुरुवार को भगवान विष्णु के प्रसन्नता के लिए तुलसी विवाह की कथा और महिमा का पाठ कर सकते हैं। यह भगवान विष्णु को बहुत प्रिय होता है।

3. विष्णु चालीसा का पाठ

विष्णु चालीसा का पाठ करने से भी भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। यह छोटी-छोटी श्लोकों की सूची होती है जो उनकी महिमा का गान करती है।

4. विष्णु मंत्र का जाप

"ॐ नमो भगवते वासुदेवाय" और "ॐ नमो नारायणाय" जैसे विष्णु मंत्रों का जाप करने से भी उन्हें प्रसन्न किया जा सकता है।

5. विष्णु पूजा

गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा करें। इसमें तुलसी के पत्ते, फूल, नैवेद्य (प्रसाद), दीप, धूप, और अर्चना की विधियां शामिल हो सकती हैं। इन सुझावों के माध्यम से आप भगवान विष्णु को अपने प्रसन्नता के लिए समर्पित कर सकते हैं। ध्यान रखें कि पूजा और मंत्रों का अधिक से अधिक श्रद्धालु भाव से किया जाए।

अस्वीकरण

इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। IND24 यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। IND24 अंधविश्वास के खिलाफ है।