H

Loksabha: पूर्व पीएम देवगौड़ा ने सदन में कांग्रेस को सुनाई खरी-खरी, बोले- मिस्टर खरगे, क्या आप PM बनना चाहते हैं?

By: payal trivedi | Created At: 08 February 2024 05:15 PM


पूर्व प्रधानमंत्री और जद (एस) प्रमुख एचडी देवेगौड़ा ने गुरुवार को राज्यसभा में कांग्रेस हाईकमान की संस्कृति पर जमकर कटाक्ष किया।

banner
New Delhi: पूर्व प्रधानमंत्री और जद (एस) प्रमुख एचडी देवेगौड़ा (Loksabha) ने गुरुवार को राज्यसभा में कांग्रेस हाईकमान की संस्कृति पर जमकर कटाक्ष किया। साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से पूछा कि क्या पार्टी उनके प्रधानमंत्री बनने को बर्दाश्त कर पाएगी। राज्यसभा में रियाटर हो रहे सदस्यों की विदाई में हिस्सा लेते हुए जद (एस) प्रमुख ने खरगे के बयान पर आपत्ति दर्ज कराई। उन्होंने कहा- भाजपा को उनका समर्थन अपनी पार्टी को 'कुछ कांग्रेसियों' से बचाने के लिए था, जो इसे बर्बाद करना चाहते थे।

खरगे के मुरीद हुए देवेगौड़ा

खरगे की ईमानदारी और उनके राजनीतिक करियर के दौरान उनके द्वारा दिए गए समर्थन को स्वीकार करते हुए देवेगौड़ा ने 2019 में कांग्रेस-जद (एस) सरकार के पतन के लिए कुछ कांग्रेस नेताओं को दोषी ठहराया। बता दें कि कांग्रेस-जद (एस) सरकार का नेतृत्व पूर्व प्रधानमंत्री के बेटे एचडी कुमारस्वामी ने किया था। देवेगौड़ा ने 2019 का किस्सा सुनाते हुए दावा किया कांग्रेस हाई कमान ने इस बात पर जोर दिया कि कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनना चाहिए। दरअसल, देवेगौड़ा ने बताया कि उन्होंने कुमारस्वामी को नहीं, बल्कि खरगे को मुख्यमंत्री बनाने का सुझाव दिया था। उन्होंने कहा, ...13 माह के भीतर उन्हें (कुमारस्वामी) किसने हटाया? खरगे ने नहीं, बल्कि कांग्रेस नेताओं ने उन्हें हटाया।

'खरगे का उनके दोस्तों ने किया विरोध'

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि मिस्टर खरगे, क्या आप (Loksabha) इस देश के पीएम बनना चाहते हैं? क्या कांग्रेस इसे बर्दाश्त कर पाएगी? कृपया मुझे बताएं, मैं कांग्रेस को जानता हूं। खरगे को तकरीबन 35-40 सालों तक काम करने वाला एक साफ-सुथरा व्यक्ति करार देते हुए देवेगौड़ा ने कहा, ...लेकिन क्या हुआ जब किसी ने पीएम बनने या नेता बनने के लिए आपका नाम सुझाया? इसका उनके अपने दोस्तों ने विरोध किया है!

कांग्रेस पर देवेगौड़ा के गंभीर आरोप

देवेगौड़ा ने कहा कि वह अपने जीवन में कोई निजी लाभ पाने के लिए एक पार्टी से दूसरी पार्टी में नहीं गए हैं। उन्होंने कहा कि मैं अपनी पार्टी को बचाना चाहता हूं जब कुछ कांग्रेसी पार्टी को बर्बाद करना चाहते हैं। मैंने भाजपा को अपना समर्थन देने का फैसला किया। यही एकमात्र कारण है। वहीं, खरगे की ओर देखते हुए उन्होंने कहा कि यह व्यक्तिगत लाभ के लिए नहीं है।