H

नेताओं ने लोगों से मांगे 1-1 रुपये, कांग्रेस ने शुरू किया "एक नोट-एक वोट" अभियान

By: Durgesh Vishwakarma | Created At: 01 April 2024 04:18 PM


प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा है कि, आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद कांग्रेस के बैंक खातों पर रोक लगाने के कदम का उद्देश्य चुनाव से पहले उनकी पार्टी को आर्थिक रूप से कमजोर करना है।

banner
लोकसभा चुनाव 2024 का शंखनाद हो गया है। सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने कमर कस ली है। चुनाव के पास आते ही राजनीतिक दल अपने-अपने तरीकों से जनता से संपर्क साधने में लग गए हैं। ऐसा ही एक अनोखा तरीका मध्य प्रदेश में भी देखने को मिला है। कांग्रेस की एमपी इकाई ने आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए चंदा मांगते हुए बीते रविवार को ‘एक नोट-एक वोट’ अभियान शुरू किया है।

केंद्र सरकार पर जीतू पटवारी का बड़ा आरोप

इस दौरान कांग्रेस ने ये भी दावा किया है कि, केंद्र सरकार ने उसके बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगा दी है, जिसके चलते उसके पास पैसे नहीं है। एमपी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा है कि, आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद कांग्रेस के बैंक खातों पर रोक लगाने के कदम का उद्देश्य चुनाव से पहले उनकी पार्टी को आर्थिक रूप से कमजोर करना है।

कांग्रेस उम्मीदवारों ने मांगे 1-1 रुपये

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने एक नोट-एक वोट अभियान को राज्य की राजधानी भोपाल के रोशनपुरा चौराहे पर शुरू किया। यहां भोपाल से पार्टी के उम्मीदवार अरुण श्रीवास्तव और जबलपुर के प्रत्याशी दिनेश यादव ने हाथों में बॉक्स लेकर प्रत्येक व्यक्ति से एक रुपया मांगा और एक वोट देने का अनुरोध किया। इनके अलावा मध्य प्रदेश में अन्य सीट से कांग्रेस के उम्मीदवारों ने भी इस अभियान में हिस्सा लिया।