H

परिवार में धन-वैभव और सुख शांति बनाए रखता है मोरपंखी का पौधा, जानें इसका वास्तु महत्व

By: Richa Gupta | Created At: 11 July 2024 10:28 AM


वास्तु शास्त्र में घर परिवार के लिए कुछ खास पौधों को बहुत ही भाग्यशाली बताया गया है। जिनसे सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। बाग-बगीचे, स्कूल में एक पौधा जरुर देखा होगा।

bannerAds Img
वास्तु शास्त्र में घर परिवार के लिए कुछ खास पौधों को बहुत ही भाग्यशाली बताया गया है। जिनसे सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। बाग-बगीचे, स्कूल में एक पौधा जरुर देखा होगा। मोरपंखी का पौधा जिसे बचपन में कई लोग विद्या बढ़ाने के लिए किताब के पन्नों में छिपाते थे। शास्त्रों में मोरपंखी पौधे को बहुत शुभ बताया गया है। मोरपंखी का पौधा जहां ईश्‍वर का प्रतीक माना जाता है वहीं इस पौधे को घर में उचित दिशा में लगाने से आपके घर पर भगवान की कृपा दृष्टि बनी रहती है तो वहीं मां लक्ष्‍मी भी आपसे प्रसन्‍न होती हैं। मोरपंख का संबंध भगवान कृष्‍ण से माना गया है, इसलिए मोरपंखी का पौधा भी ईश्‍वर का ही प्रतिनिधित्‍व करता है। मोरपंखी पौधे का वास्तु महत्व वास्तु शास्त्र में प्रमुख रूप से उसके आकर्षकता और सुखदायित्व के कारण माना जाता है। यह पौधा विभिन्न पौधों के बीच में अपनी अनूठी रंगत और आकर्षक अंगों के लिए विख्यात है। यहां कुछ महत्वपूर्ण कारण दिए जा रहे हैं जो मोरपंखी पौधे के वास्तु महत्व को समझाते हैं।

आकर्षकता और सौंदर्य

मोरपंखी पौधे की सुंदरता और आकर्षकता उसके विशेष रंगों और पूरे आकार में होती है। इसकी पत्तियां हरे और फूल लाल रंग के होते हैं, जो उसे अन्य पौधों से अलग बनाते हैं। इसलिए, यह अपनी आकर्षकता के कारण वास्तु में पसंद किया जाता है।

सुखदायित्व और शांति

मान्यता है कि मोरपंखी पौधे के आसपास रहने से शांति और सुख का वातावरण बनता है। इसकी शांतिदायक रंगत और विशेषता की वजह से लोग इसे अपने घरों में रखते हैं।

वास्तु शास्त्र में महत्व

वास्तु शास्त्र में भी मोरपंखी पौधे को विशेष महत्व दिया गया है। इसे शुभ और सुखदायक माना जाता है और इसका वास्तु उपयोग समृद्धि और शांति के लिए किया जाता है।

विशेष सूचना

इसे अपने घर में रखने के लिए वास्तु शास्त्र में एक विशेष स्थान दिया गया है, जैसे कि यह अच्छी सेहत, समृद्धि और खुशी के लिए शुभ माना जाता है।

अस्वीकरण

इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। IND24 यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। IND24 अंधविश्वास के खिलाफ है।