H

आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार

By: Richa Gupta | Created At: 09 September 2023 04:33 AM


आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) को भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले उन्हें वारंट मिला था। चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी शनिवार सुबह 6 बजे की गई है।

bannerAds Img
आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) को भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले उन्हें वारंट मिला था। चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी शनिवार सुबह 6 बजे की गई है। कहा जा रहा है कि कौशल विकास मामले में भ्रष्टाचार के मामले में टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी हुई। उनके खिलाफ जो धाराएं लगाई गईं थीं, वो गैर जमानती थीं।

मेडिकल जांच

चंद्रबाबू नायडू को मेडिकल जांच के लिए नंदयाला अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया, जिसके बाद उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा। कहा जा रहा है कि गिरफ्तारी के बाद नायडू ने पुलिस के साथ सहयोग करने की बात कही। बता दें कि चंद्रबाबू नायडू पर 350 करोड़ रुपये कौशल विकास घोटाले का आरोप है।

द्रबाबू नायडू ने दावा किया था

हाल ही में चं कि उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। मामले के संबंध में पुलिस ने कहा कि अदालत को सभी विवरण और सामग्री उपलब्ध करा दी गई है। नायडू पुलिस के साथ सहयोग करने के लिए सहमत हुए और उन्हें अपने काफिले में ले जाया जाएगा जबकि उनकी सुरक्षा को उनके साथ जाने की अनुमति दी जाएगी।

जनता का पैसा लूटने के आरोप

बता दें कि शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री मेरुगा नागार्जुन ने जनता का पैसा लूटने के आरोप में चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी की मांग की थी। ताडेपल्ली में एक मीडिया सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कैश फॉर वोट मामले में वहां से भागने से पहले चंद्रबाबू ने हैदराबाद में लेक व्यू गेस्ट हाउस की मरम्मत के लिए 10 करोड़ रुपये खर्च किए थे। समाज कल्याण मंत्री ने आरोप लगाया कि चंद्रबाबू नायडू ने मुख्यमंत्री कार्यालय पर और 10 करोड़ रुपये खर्च किए। साथ ही चार्टर्ड उड़ानों के लिए 100 करोड़ रुपये और धर्म पोराटा दीक्षा पर 80 करोड़ रुपये भी खर्ज किए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री ने जनता का पैसा बर्बाद नहीं किया बल्कि लोगों के खातों में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से 2.31 लाख करोड़ रुपये वितरित किए।