H

भारतीय सेना ने राहुल गांधी के दावों को किया खारिज, अजय कुमार के परिवार को दिए गए 98.39 लाख रुपये

By: Richa Gupta | Created At: 04 July 2024 09:50 AM


भारतीय सेना ने राहुल गांधी एवं उन मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज किया है, जिसमें बताया जा रहा था कि वीरगति को प्राप्त होने वाले अग्निवीरों के परिवारों को किसी प्रकार की आर्थिक मदद नहीं दी गई।

bannerAds Img
भारतीय सेना ने राहुल गांधी एवं उन मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज किया है, जिसमें बताया जा रहा था कि वीरगति को प्राप्त होने वाले अग्निवीरों के परिवारों को किसी प्रकार की आर्थिक मदद नहीं दी गई। सेना के अनुसार, पंजाब के बलिदानी अग्निवीर अजय कुमार के परिवार को 98 लाख रुपए दिए जा चुके हैं, तो 67 लाख रुपए की धनराशि उनके परिवार को देने की प्रक्रिया अभी जारी है। बता दें कि राहुल गांधी ने इल्जाम लगाया था कि अग्निवीरों के परिजनों को कोई आर्थिक मदद नहीं दी गई है। उन्होंने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह पर देश को गुमराह करने के भी इल्जाम लगाए थे। हालांकि भारतीय सेना ने राहुल गांधी के आरोपों की पोल खोल दी है।

रक्षा मंत्री ने राहुल गांधी को सदन में भी फटकार लगाई थी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सेना की तरफ से जारी बयान को री-ट्वीट किया है तथा कहा, “भारतीय सेना अग्विनीरों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।” रक्षा मंत्री ने राहुल गांधी को सदन में भी फटकार लगाई थी। उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी को ऐसी बयानबाजी नहीं करनी चाहिए। वहीं, अब सेना की तरफ से जारी ऑफिशियल बयान में बताया गया है कि अग्निवीर के परिजनों को मुआवजे के तौर पर अब तक 98 लाख रुपए दिए जा चुके हैं। सेना ने X पर पोस्ट किया, “कुछ सोशल मीडिया पोस्ट में दावा किया गया है कि ड्यूटी के चलते वीरगति प्राप्त करने वाले अग्निवीर अजय कुमार के परिजनों को मुआवजा नहीं दिया गया है। ऐसे दावे बिल्कुल निराधार हैं। भारतीय सेना अग्निवीर अजय कुमार के सर्वोच्च बलिदान को सलाम करती है। उनका पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंत्येष्टि की गई।

इतने रुपयों का हुआ भुगतान

अग्निवीर अजय के परिवार को कुल देय राशि में से 98.39 लाख रुपये का भुगतान पहले ही किया जा चुका है।” सेना की तरफ से कहा गया है कि इसके अतिरिक्त उनके परिवार को 67 लाख रुपये की राशि और दी जाएगी, तत्पश्चात, कुल राशि लगभग 1.65 करोड़ रुपए हो जाएगी। पंजाब के लुधियाना जिले के खन्ना के रहने वाले अग्निवीर अजय सिंह 23 जनवरी, 2024 को जम्मू-कश्मीर में बलिदान हो गए थे, उनकी आयु सिर्फ 23 वर्ष थी। केंद्रशासित प्रदेश के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में एक बारूदी सुरंग में हुए विस्फोट की चपेट में आने से वो वीरगति को प्राप्त हुए थे। उनके परिवार में माता-पिता एवं 4 बहनें हैं। लोकसभा चुनाव से पहले दाखा की दाना मंडी में रैली को संबोधित करने के पश्चात् राहुल गांधी खन्ना आए तथा इसके बाद अचानक गांव रामगढ़ सरदारा में अग्निवीर बलिदानी अजय कुमार के घर पहुंचे थे।