H

मध्यप्रदेश सरकार आम मरीजों के लिए शुरू करेगी एयर एंबुलेंस सेवा

By: Ramakant Shukla | Created At: 06 February 2024 08:26 PM


मध्यप्रदेश सरकार एयर एंबुलेंस सेवा शुरू करेगी। इसमें एक हेलीकाप्टर एवं एक एयरक्राफ्ट चिकित्सा सुविधाओं से सुसज्जित होगा। इसका प्रस्ताव राज्य का विमानन विभाग तैयार कर रहा है। देश के बड़े अस्पतालों के पास एयर एम्बुलेंस उपलब्ध हैं और इनका उपयोग सिर्फ संपन्न व्यक्ति ही कर पाते हैं।

banner
मध्यप्रदेश सरकार एयर एंबुलेंस सेवा शुरू करेगी। इसमें एक हेलीकाप्टर एवं एक एयरक्राफ्ट चिकित्सा सुविधाओं से सुसज्जित होगा। इसका प्रस्ताव राज्य का विमानन विभाग तैयार कर रहा है। देश के बड़े अस्पतालों के पास एयर एम्बुलेंस उपलब्ध हैं और इनका उपयोग सिर्फ संपन्न व्यक्ति ही कर पाते हैं। सरकार सफल हुई तो सरकारी सेवकों एवं आम जनों के लिए भी इस एयर एंबुलेंस का उपयोग किया जाएगा। यह कदम इसलिए उठाया जा रहा है ताकि एयर एंबुलेंस की आवश्यकता होने पर मरीज के स्वजन को परेशान न होना पड़े। इसमें जो शुल्क लगता है, उसमें सरकार द्वारा कुछ छूट भी दी जाएगी। इसमें विभिन्न कंपनियों से अनुबंध किया जाएगा। कंपनियों को इसकी प्रतिपूर्ति मध्यप्रदेश सरकार करेगी। बाद में राज्य सरकार एयर एंबुलेंस की खरीदी कर अपने विमानन बेड़े में शामिल करेगी। इसके अलावा प्रदेश के धार्मिक पर्यटन स्थलों के लिए हेलीकाप्टर सेवा शुरू की जाएगी। विमानन विभाग इसका भी प्रस्ताव बना रहा है।

विधानसभा चुनाव में नक्सल प्रभावित जिलों में थी एयर एंबुलेंस की सुविधा

विधानसभा चुनाव में भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर राज्य सरकार ने नक्सल प्रभावित क्षेत्र बालाघाट, मंडला एवं डिंडौरी जिलों में मतदान कर्मियों के लिए एयर एंबुलेंस की व्यवस्था की थी। आने वाले लोकसभा आम चुनावों में भी इसकी व्यवस्था रहेगी। लेकिन यह सुविधा प्रदेश के सभी लोगों के लिए रहे, इसलिए राज्य सरकार अपने पास स्थायी रूप से एयर एंबुलेंस रखना चाहती है।

महाकाल की नगरी उज्जैन में बनेगा हवाई अड्डा

धार्मिक नगरी उज्जैन में हवाई अड्डा बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के निर्देशों के बाद राज्य सरकार के विमानन विभाग ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। महाकाल लोक के पास उज्जैन में हवाई सेवाएं के विस्तार किया जाएगा। विमानन विभाग के मुताबिक, उज्जैन की दताना हवाई पट्टी के नवीनीकरण, बीटी रोड, भू-अर्जन, बाउंड्री वाल निर्माण किया जाएगा। उज्जैन के ही वाकणकर पुल के पास स्थाई हेलीपैड बनाया जाएगा।