H

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से 500 साल का दर्द हुआ खत्म - उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़

By: Richa Gupta | Created At: 04 February 2024 11:10 AM


उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा कि, भारत के खिलाफ फैलाई जाने वाली राष्ट्र-विरोधी कहानियों को निष्प्रभावी करने की जिम्मेदारी युवाओं की है।

banner
जेएनयू के सातवें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा कि, भारत के खिलाफ फैलाई जाने वाली राष्ट्र-विरोधी कहानियों को निष्प्रभावी करने की जिम्मेदारी युवाओं की है। धनखड़ ने कहा कि, यह देखकर दुख होता है कि, जागरूक लोग देश के बाहर हमारी छवि खराब कर रहे हैं और हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों पर सवाल उठा रहे हैं।

22 जनवरी को हमारे देश में जश्न का माहौल था

उपराष्ट्रपति ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि, कुछ बाहरी तत्व आख्यानों में भारतीय मूल के शिक्षकों और छात्रों द्वारा समर्थित राष्ट्र-विरोधी विमर्श का केंद्र बन गए हैं। युवाओं को इन विरोधियों को बेअसर करना होगा। इसके साथ ही जगदीप धनखड़ ने कहा कि, अयोध्या में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा का समारोह भारत के सभ्यतागत इतिहास का प्रतीक है और इसने देश के 500 साल के दर्द को समाप्त कर दिया। 22 जनवरी को हमारे देश में जश्न का माहौल था, जब अयोध्या धाम में राम लला का अभिषेक समारोह था।

भ्रष्टाचार को अब पुरस्कृत नहीं किया जाता

जगदीप धनखड़ ने कहा कि, जब जम्मू और कश्मीर से 370 हटाई गई थी, तब देश में सभी ने खुशी जताई थी। भ्रष्टाचार को अब पुरस्कृत नहीं किया जाता, कानून को समान रूप से लागू किया जाता है। उन्होंने कहा कि, भारत पांचवी बड़ी अर्थव्यवस्था है और आईएमएफ ने संकेत दिया है कि, बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत की वृद्धि सबसे अधिक है। 2047 तक विकसित भारत बनाना है तो युवाओं की भूमिका अग्रणी होगी।