H

मध्यप्रदेश में विधायक, सांसद अपने-अपने जिले की करेंगे समीक्षा, सीएम डॉ. मोहन यादव को देंगे रिपोर्ट

By: Ramakant Shukla | Created At: 27 June 2024 10:44 AM


मध्यप्रदेश में जिले की समीक्षा अब विधायक और सांसद करेंगे। वे अपने- अपने जिले की प्रत्येक माह समीक्षा करेंगे और विकास कार्य की प्रगति के बारे में जानेंगे। इस कार्य में कलेक्टर, एसपी से लेकर विभागीय जिला अधिकारी और अन्य जनप्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

bannerAds Img
मध्यप्रदेश में जिले की समीक्षा अब विधायक और सांसद करेंगे। वे अपने- अपने जिले की प्रत्येक माह समीक्षा करेंगे और विकास कार्य की प्रगति के बारे में जानेंगे। इस कार्य में कलेक्टर, एसपी से लेकर विभागीय जिला अधिकारी और अन्य जनप्रतिनिधि भी शामिल होंगे। समीक्षा रिपोर्ट मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव को दी जाएगी, जिसके आधार पर भविष्य में जिलों का आवश्यक विकास किया जाएगा। विधायक द्वारा विकास कार्यों की समीक्षा कर जनहितैषी कार्यों की अनुशंसा भी की जाएगी। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने इस दिशा में कार्य करने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों में बेहतर समन्वय रहे और आदर्श विधान सभाएं बनाने के लिए जरूरी विकास कार्य और उपाय सुनिश्चित किए जाएं। जिला स्तर पर बैठक कर विकास कार्यों का रोड मैप तैयार करें।

गरीबों, किसानों, महिलाओं और युवाओं को पात्रता अनुसार मिले लाभ

सांसद और विधायक आधुनिक तकनीकी का उपयोग करते हुए ऐसी व्यवस्था बनाएं कि वे अपने कार्यालय से ही व्यक्तिगत रूप से वीडियो कांफ्रेंसिंग कर सकें। मुख्यमंत्री ने इस बात पर भी जोर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्राथमिकता वाली योजनाओं का लाभ किसानों, महिलाओं, गरीबों और युवाओं को पात्रता अनुसार मिल सके।

मंत्री भी करेंगे प्रतिमाह अपने-अपने विभागों की समीक्षा

मंत्री भी अपने-अपने विभागों की समीक्षा करेंगे। वे विधायक, सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा क्षेत्र में की गई अनुशंसा के आधार पर कार्य स्वीकृत करेंगे। जो प्रकरण कैबिनेट भेजे जाएंगे, उनके प्रस्ताव तैयार कराए जाएंगे।

प्रत्येक जिले में विकास का रोड मैप होगा तैयार

प्रत्येक जिले में विकास कार्यों को पूरा करने के लिए रोड मैप बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने जिले के विकास कार्यों को ध्यान में रखते हुए विधानसभा और लोकसभा क्षेत्रवार भी विकास कार्यों का विभाजन करने के निर्देश दिए हैं। आगामी चार-पांच वर्षों के लिए यह रोड मैप तैयार किया जाएगा। विकास कार्यों की प्राथमिकता निर्धारित कर पूरा करने की योजना भी बनाई जाएगी।