H

मुख्तार अंसारी की मौत की होगी न्यायिक जांच, एक महीने में रिपोर्ट सौंपने का आदेश

By: Sanjay Purohit | Created At: 29 March 2024 02:53 PM


माफिया मुख्तार अंसारी की मौत मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही एक महीने में जांच की रिपोर्ट को सौंपने के लिए कहा गया है। वहीं, MP-MLA कोर्ट की जज गरिमा सिंह को जांच अधिकारी बनाया गया है।

banner
माफिया मुख्तार अंसारी की मौत मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही एक महीने में जांच की रिपोर्ट को सौंपने के लिए कहा गया है। वहीं, MP-MLA कोर्ट की जज गरिमा सिंह को जांच अधिकारी बनाया बनाया गया है। वहीं, मुख्तार अंसारी के बेटे उमर अंसारी ने बांदा के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर मांग की है कि उनके पिता का पोस्टमॉर्टम दिल्ली एम्स के डॉक्टरों से कराया जाए। अपने पत्र में अंसारी ने लिखा है कि उनके परिवार को बांदा की चिकित्सा व्यवस्था पर भरोसा नहीं है।

उमर अंसारी ने जिलाधिकारी से की गई आवेदन में लिखा था कि पत्र के माध्यम से न्यायालय को अवगत कराया गया था कि मेरे पिता को खाने में जहर दिया गया है तथा इस घटना के 40 दिन पहले भी उन्हें खाने में जहर दिया गया था। इस जहर की वजह से ही मेरे पिता की तबीयत बिगड़ गई। पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि जिला अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा उनके पिता का अच्छे से उपचार नहीं किया है औऱ दबाव बनाकर उन्हें कुछ ही घंटो के बाद वापस जेल में भेज दिया गया।

मोहम्मदाबाद कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा मुख्तार अंसारी

माफिया से नेता बने मुख्तार अंसारी को बृहस्पतिवार को तबीयत बिगड़ने के बाद जिला जेल से रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज ले जाया गया, जहां दिल का दौरा पड़ने से उसकी मौत हो गई। उसकी मौत के बाद गाजीपुर मोहम्मदाबाद में सन्नाटा पसरा हुआ है। पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू है, जिसके चलते आज गाजीपुर में सारी दुकानें बंद कर दी गई और पुलिस अलर्ट मोड पर है और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। परिजनों की ओर से दी गई सूचना के अनुसार, गाजीपुर के मोहम्मदाबाद कब्रिस्तान में मुख्तार अंसारी को सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा।वहीं पर मुख्तार को सुपुर्द-ए-खाक करने की तैयारी की जा रही है। जिले में भारी सुरक्षा व्यवस्था भी की गई है।