H

लक्ष्मण सिंह ने राहुल की टिप्पणी पर साधा निशाना: बोले- संसद में हिदुंओं पर की गई टिप्पणी अशोभनीय

By: Richa Gupta | Created At: 02 July 2024 05:50 AM


लोकसभा संसद सत्र के छठे दिन बतोर नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी ने पहला भाषण दिया और सत्ता पक्ष को कई मुद्दों पर घेरा। राहुल गांधी ने 90 मिनट के भाषण में मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

bannerAds Img
लोकसभा संसद सत्र के छठे दिन बतोर नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी ने पहला भाषण दिया और सत्ता पक्ष को कई मुद्दों पर घेरा। राहुल गांधी ने 90 मिनट के भाषण में मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। लेकिन उनका एक बयान सबसे ज्यादा चर्चा में है। राहुल ने सदन में कहा 'भाजपा हिंसा कराती है, जो लोग अपने आप को हिंदू कहते हैं, वे चौबीसों घंटे हिंसा करते हैं।' उनके इस बयान पर कांग्रेस के ही सीनियर नेता और पूर्व विधायक ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने राहुल गांधी को संसद में जनता और देश से जुड़े मुद्दों को उठाने की सलाह देते हुए इस बयान को अशोभनीय और अनावश्यक बताया है।

बयान प्रदेश की सियासत में चर्चा में है,/H3> दरअसल, कांग्रेस के सीनियर नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई और पूर्व कांग्रेस विधायक-सांसद लक्ष्मण सिंह ने राहुल गांधी के भाषण पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा 'संसद में 'हिंदुओं' पर की गई टिप्पणी अशोभनीय है और अनावश्यक भी। केवल और केवल जनता और देश से जुड़े मुद्दे उठाना ही उचित होगा।' उनका यह बयान प्रदेश की सियासत में चर्चा में है। लक्ष्मण सिंह के इस बयान के बाद बीजेपी के नेता उनके समर्थन में आ गए हैं, जबकि उन्हें बीजेपी में तक आने का न्यौता दे दिया।

अपनी ही पार्टी को घेरा

क्योंकि यह पहला मौका नहीं है, जब लक्ष्मण सिंह ने अपनी ही पार्टी को घेरा हो इससे पहले भी वह कई बार ऐसा कर चुके हैं। हाल ही में उन्होंने एक और ट्वीट किया था। इसमें भी उन्होंने अपनी ही पार्टी पर सवाल उठाए थे। लक्ष्मण सिंह ने लिखा था 'अगर हम संसद में लगे "सेंगोल" से डर रहे हैं,तो हम भाजपा से कैसे लड़ेंगे? जनता के मुद्दों पर लड़ाई शुरू करो, कब करोगे.' जबकि अब सीधे राहुल गांधी का विरोध जताने के बाद लक्ष्मण सिंह की चर्चा सबसे ज्यादा हो रही है। क्योंकि वह दिग्विजय सिंह के भाई हैं जिन्हें गांधी परिवार का सबसे करीबी माना जाता है। लक्ष्मण सिंह चार बार कांग्रेस से सांसद और तीन बार विधायक रह चुके हैं, जबकि वह एक बार बीजेपी की तरफ से भी सांसद रह चुके हैं।