H

महाकालेश्वर मंदिर में होगा सबसे पहले होलिका दहन, जमकर उड़ेगा रंग गुलाल, आरतियों के समय मे भी होगा बदलाव

By: Sanjay Purohit | Created At: 24 March 2024 12:44 PM


पूरे देश में धूमधाम से होली बनाने की तैयारियां जोर शोर से चल रही है। इसी कड़ी में महाकाल की नगरी में सबसे पहले होलिका दहन होगा। इसके साथ ही बाबा महाकाल के यहां जमकर रंग गुलाल उड़ेगा।

banner
उज्जैनः महाकालेश्वर मंदिर में सबसे पहले होलिका पूजन कर दहन करने की प्रथा आज भी कायम है। जिसके क्रम में ही रविवार को संध्या आरती के पश्चात सर्वप्रथम बाबा महाकाल के प्रांगण में होलिका का पूजन कर दहन किया जायेगा। जिसके पश्चात प्राकृतिक रंगों से ही भक्त भी होली खेलेंगे। महाकालेश्वर मंदिर में होलिका दहन के पश्चात ही शहर में अन्य स्थानों पर होलिका का दहन किया जाता है। होली के पश्चात ही प्रतिदिन होने वाली बाबा महाकाल की आरती का समय भी परिवर्तित हो जाता है

वैसे तो हर त्यौहार की शुरुआत बाबा महाकाल के आंगन से होती है। इसी क्रम में रविवार को संध्या आरती पश्चात श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रांगण में होलिका का विधिवत पूजन अर्चन कर दहन किया जाएगा। इसके बाद 25 मार्च सोमवार को धुलेंडी पर्व मनाया जावेगा। होलिका दहन के पश्चात श्री बाबा महाकाल को गुलाल अर्पित किया जाएगा।

यह रहेगा प्रतिदिन होने वाली आरती का समय

श्री महाकालेश्वार मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक संदीप सोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि 26 मार्च 2024 से परम्पमरानुसार ज्योरर्तिलिंग श्री महाकालेश्वर भगवान की आरतियों के समय में चैत्र कृष्ण प्रतिपदा से अश्विन पूर्णिमा तक परिवर्तन होगा।

प्रथम भस्म आरती– प्रा‍त: 04:00 से 06:00 बजे तक,

द्वितीय दद्योदक आरती प्रा‍त: 07:00 से 07:45 बजे तक,

तृतीय भोग आरती प्रा‍त: 10:00 से 10:45 बजे तक,

चतुर्थ संध्या पूजन सायं 05:00 से 05:45 बजे तक,

पंचम संध्या आरती सायं 07:00 से 07:45 बजे

शयन आरती रात्रि 10:30 ये 11:00 बजे तक होगी