H

REET Paper Leak मामले में ईडी की एंट्री, देर रात कॉर्डिनेटर रहे प्रदीप पाराशर को किया गिरफ्तार

By: payal trivedi | Created At: 11 July 2024 07:39 AM


प्रदेश में करीब दो साल पहले हुए रीट पेपर लीक मामले में अब ईडी की एंट्री हो चुकी है। ईडी ने शिक्षा संकुल के पूर्व कोऑर्डिनेटर प्रदीप पाराशर को देर रात गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है

bannerAds Img
Jaipur: प्रदेश में करीब दो साल पहले हुए रीट पेपर लीक मामले में अब ईडी की एंट्री हो चुकी है। ईडी ने शिक्षा संकुल के पूर्व कोऑर्डिनेटर प्रदीप पाराशर को देर रात गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है। दरअसल, प्रदीप पाराशर का नाम पेपर लीक में सामने आया था। इसके बाद एसओजी और पुलिस भी उनसे पूछताछ कर चुकी है। इधर, ईडी ने गुरुवार रात जवाहर नगर स्थित उनके फ्लैट से गिरफ्तार किया। इसके बाद रात करीब 11 बजे बाद कोर्ट में पेश किया गया, जहां से तीन दिन की रिमांड पर सौंप दिया गया है।

ईडी में बड़ी गिरफ्तारी, हो सकते हैं कई खुलासे

जिस स्ट्रॉन्ग रूम में रीट के पेपर रखे थे उसकी और जयपुर जिले की जिम्मेदारी थी। इसी दौरान रीट पेपर लीक हुआ तो प्रदीप पाराशर का नाम सामने आया था। इसके बाद अलग-अलग एजेंसियों ने भी इस मामले में पूछताछ की थी। ऐसे में ये भी जानकारी सामने आ रही है कि ईडी को इस मामले में रुपए के लेन-देन को लेकर कई अहम जानकारी हाथ लगी है। ऐसे में पाराशर से पेपर लीक से जुड़े लेन-देन को लेकर पूछताछ करेगी। अधिकारियों की माने तो गिरफ्तारी के बाद पाराशर से कई खुलासे भी हो सकते है। वहीं ये भी बताया जा रहा है कि ईडी ने एसओजी से भी कुछ इनपुट जुटाए थे और इन्हीं इनपुट के बाद पाराशर की गिरफ्तारी भी हुई है।

आरटेट परीक्षा में भी कोऑर्डिनेटर था पाराशर

प्रदीप पाराशर को 2011 और 2012 में कांग्रेस सरकार में भी आरटेट परीक्षा में कोऑर्डिनेटर बनाया गया था। तब बोर्ड चेयरमैन मंत्री सुभाष गर्ग थे। प्रदीप पाराशर मंत्री सुभाष गर्ग और बोर्ड अध्यक्ष डीपी जारौली का करीबी दोस्त है। ऐसे में प्रदीप पाराशर को शिक्षा संकुल में कोऑर्डिनेटर बनाया गया था। उसके साथ ही चार कोऑर्डिनेटर भी थे।

एसओजी ने किया था खुलासा, स्ट्रॉन्ग रूम से लीक हुआ था पेपर

इससे पूर्व एसओजी ने खुलासा किया था कि जयपुर शिक्षा संकुल के स्ट्रॉन्ग रूम से पेपर लीक हुआ था। इसी के बाद से राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष रहे डीपी जारोली और उनके दोस्त प्रदीप पाराशर दोनों शक के घेरे में आए थे। एसओजी की जांच में खुलासा हुआ था कि पेपर 1.25 करोड़ रुपए में बेचा गया। पेपर स्ट्रांग रूम से निकालकर कोचिंग संचालकों और नकल गिरोह तक पहुंचाया गया। यह भी सामने आया कि J-सीरीज का पेपर स्ट्रॉन्ग रूम से लीक किया गया और अलग-अलग सेंटर पर बांटा गया। जांच में ये भी सामने आया था कि पेपर जयपुर, जालोर, सिरोही, टोंक, सवाईमाधोपुर, गंगापुर सिटी, दौसा, करौली सहित कई जगहों पर पहुंचाया गया। नकल गिरोह ने एग्जाम से पहले 50 सेंटर पर पेपर पहुंचाया।