H

मध्य प्रदेश चुनाव में रावण के भाई अहिरावण की एंट्री, क्या BJP के हिंदुत्व की बुनियाद हिला पाएगी कांग्रेस ?

By: Richa Gupta | Created At: 09 November 2023 06:47 AM


देश के पांच राज्यों में चुनावी बिगुल बज रहा है। इस चुनावी मौसम में हर बड़े से बड़े मुद्दे पर हिंदू, हिंदुत्व और श्री राम का मुद्दा भारी पड़ रहा है। बीजेपी की तो विचारधारा और बुनियाद ही हिंदुत्व पर टिकी है।

bannerAds Img
देश के पांच राज्यों में चुनावी बिगुल बज रहा है। इस चुनावी मौसम में हर बड़े से बड़े मुद्दे पर हिंदू, हिंदुत्व और श्री राम का मुद्दा भारी पड़ रहा है। बीजेपी की तो विचारधारा और बुनियाद ही हिंदुत्व पर टिकी है। इसी हिंदुत्व के दम पर वो पिछले दस सालों में केंद्र से लेकर अलग-अलग राज्यों की सत्ता साधने में कामयाब हुई। यही वजह है कि विरोधी पार्टियां अब बीजेपी के इस फॉर्मूले में सेंध लगाने की कोशिश कर रही है। पिछले कुछ सालों में कांग्रेस ने बीजेपी के हार्ड हिंदुत्व के मुकाबले अपनी सॉफ्ट हिंदुत्व की एक इमेज तैयार की है। अब विधानसभा चुनावों में और 2024 के चुनावों से पहले पार्टी के दिग्गज नेता अपनी इसी इमेज को धार देने की कोशिश कर रहे हैं।

राम कथा के प्रसंग निकले

इसकी एक बड़ी तस्वीर मध्य प्रदेश से नजर आई जहां प्रियंका गांधी की जुबान से राम कथा के प्रसंग निकले और प्रियंका ने राम कथा के जरिए बीजेपी पर जोरदार हमला बोला। वहीं, पीएम मोदी ने गुना में भगवान राम का जिक्र करते हुए कहा कि हम जितनी शिद्दत से राम मंदिर बनवा रहे हैं, उतनी ही भक्ति से गरीबों का घर भी बनवाते हैं।

धोखा देने वालों को सबक सिखाने की अपील की

मध्य प्रदेश चुनाव में भगवान राम, हनुमान और रावण के भाई अहिरावण की एंट्री हो गई है। बुधवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इंदौर के सांवेर विधानसभा सीट पर जनसभा करते हुए राम कथा के द्वारा भारतीय जनता पार्टी पर हमला किया और रामायण के प्रसंग के साथ कांग्रेस के साथ धोखा देने वालों को भी सबक सिखाने की अपील की। प्रियंका गांधी ने सांवेर के उल्टे हनुमान मंदिर का जिक्र करते हुए राम कथा का प्रसंग सुनाया।

छल-कपट करके आप की सरकार का अपहरण किया

प्रियंका गांधी ने कहा, ‘रामायण की एक कथा आपको मालूम होगी जहां अहिरावण ने चाल चली और भगवान राम तथा लक्ष्मण का अपहरण कर लिया। छल से दोनों को पाताल लोक लेकर गए और फिर हनुमान जी उन्हें लेने पाताल लोक गए। अहिरावण को हराया फिर भगवान राम और लक्ष्मण को वापस लेकर आए। इसका एक मुख्य संदेश है कि जब अन्याय होता है तो उससे हमें लड़ना है। 2018 में आपने एक सरकार चुनी और जिस तरह से अहिरावण ने भगवान राम और लक्ष्मण के साथ छल किया उसी तरह से आपके साथ हुआ है। कुछ बहरूपियों ने छल-कपट करके आप की सरकार का अपहरण किया। आज अगर आप हनुमान जी की तरह नहीं बनेंगे और अपने लिए नहीं लड़ेंगे तो कौन करेगा?’

कमलनाथ के चरित्र को धैर्यवान बताते हुए कांग्रेस की सरकार चुनने की अपील की

प्रियंका गांधी की इस राम कथा का भी मध्य प्रदेश की राजनीति से सरोकार था। प्रियंका गांधी ने तकरीबन 18 सालों से मध्य प्रदेश की सियासत की दूरी का जिक्र किया। कमलनाथ के चरित्र को धैर्यवान बताते हुए इस बार कांग्रेस की सरकार चुनने की अपील की। दिपावली का महत्व बताते हुए प्रियंका गांधी ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस राज वापस लाने का इशारा दिया। बीजेपी को भ्रष्टाचारी बताते हुए जनता से भारतीय जनता पार्टी को हराने की अपील भी की।

हिंदुत्व की हवा का रुख कैसे अपने पाले में मोड़ना है प्रियंका अच्छी तरह सीख चुकी

जानकारों का मानना है कि हिंदुत्व की हवा का रुख कैसे अपने पाले में मोड़ना है प्रियंका कर्नाटक विधानसभा चुनावों के दौरान अच्छी तरह सीख चुकी हैं। कर्नाटक में अपने चुनावी अभियान के दौरान वो कई अलग-अलग मंदिरों में दर्शन करने पहुंचीं थीं। इतना ही नहीं जिस दिन कर्नाटक विधानसभा चुनावों के नतीजे आने वाले थे, उस दिन वो सुबह-सुबह प्रियंका शिमला के हनुमान मंदिर पहुंच गईं। मतलब साफ है कि चौबीस के चुनाव में मात देने से पहले प्रियंका हिंदुत्व पर बीजेपी को पटखनी देना चाहती हैं।