H

सर्दियों में मोजे पहनकर सोने की न करें गलती, हो सकते है ये नुकसान

By: Richa Gupta | Created At: 30 January 2024 02:21 PM


सर्दियां में लोग अप आते ही लोग ठंड से बचने के लिए कई उपाय करते हैं। खुद को गर्म रखने के लिए लोग सिर से लेकर पैर तक ढंककर रखते हैं। दिनभर गर्म कपड़े पहनने के अलावा कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो रात में सोते समय मोजे पहनकर सोते हैं।

banner
सर्दियां में लोग अप आते ही लोग ठंड से बचने के लिए कई उपाय करते हैं। खुद को गर्म रखने के लिए लोग सिर से लेकर पैर तक ढंककर रखते हैं। दिनभर गर्म कपड़े पहनने के अलावा कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो रात में सोते समय मोजे पहनकर सोते हैं। ठंड में खुद को गर्म रखने के लिए ज्यादातर लोग इस तरह से सोना पसंद करते हैं। सर्दियों में मोजे पहनकर सोने से बेशक आपको गर्मी मिलती हो,लेकिन इससे आपकी सेहत को कई तरह के नुकसान भी होते हैं, जिससे ज्यादातर लोग अनजान हैं। ऐसे में अगर आप भी इस आदत का शिकार हैं, तो हम आपको बताएंगे रात में मोजे पहनकर सोने से होने वाले नुकसानों के बारे में, जिसे सुन आप तुरंत अपनी इस आदत में सुधार कर लेंगे।

ब्लड सर्कुलेशन में परेशानी

अगर आप भी सोते समय मोजे पहनते हैं, तो इससे आपके ब्लड सर्कुलेशन में परेशानी हो सकती है। दरअसल, टाइट मोजे पहनने से शरीर में खून का प्रवाह कम और धीमा हो सकता है,जिससे सही तरह से ब्लड सर्कुलेशन में परेशानी आ सकती है। ऐसे में अगर आप रात में मोजे पहनना चाहते हैं, तो कोशिश करें कि ढीले मोजे ही पहनें।

बढ़ सकता है शरीर का तापमान

रात को सोते समय मोजे पहनने से आपके शरीर का तापमान भी बढ़ सकता है। अगर मोजे पहनकर सोते समय हवा सही ढंग से पास नहीं हो पाई, तो इससे ओवरहीटिंग की समस्या हो सकती है। इसकी वजह से आपके सिर पर गर्मी चढ़ सकती है, जिससे आपको बैचेनी भी महसूस हो सकती है।

त्वचा संबंधी समस्या के हो सकते हैं शिकार

सर्दियों में अक्सर कई लोग दिनभर मोजे पहनकर घूमते हैं। इसके अलावा अगर आप रात में भी मोजे पहनकर सो रहे हैं, तो आपको स्किन एलर्जी की समस्या भी हो सकती है। इतना ही नहीं कई लोगों नाएलॉन के मोजों से भी दिक्कत हो सकती है, जो स्किन से जुड़ी समस्या की वजह बन सकती है।

हृदय पर पड़ता है बुरा प्रभाव

रात में मोज पहनकर सोने से आपके हृदय पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। दरअसल, कसे हुए मोजे पहनने से आपकी पैरों की नसों पर दबाव पड़ता है, जिससे आपके हार्ट को ब्लड पंप करने में ज्यादा जोर लगाना पड़ता है। इस वजह से कई बार सांस लेने में भी दिक्कत हो सकती है।