H

प्रदेश में पटाखा फैक्ट्रियों की होगी जांच, सभी कलेक्टर्स को 24 घंटे में रिपोर्ट देने सीएम के निर्देश

By: Ramakant Shukla | Created At: 06 February 2024 08:40 PM


मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव हरदा हादसे को लेकर गंभीर हैं। उन्होंने सभी कलेक्टर्स से जिलों में संचालित पटाखा फैक्ट्रियों के संचालन लाइसेंस की शर्तों की जांच कर 24 घंटे में रिपोर्ट तलब की है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंत्रालय में सभी कलेक्टर्स और कमिश्नर की ऑनलाइन बैठक बुलाई। इसमें सभी कलेक्टर्स को उनके जिले में संचालित पटाखा फैक्ट्री का संचालन नियमों के अनुसार हो रहा या नहीं, इसकी शर्तों के अनुसार जांच कर रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने कहा कि सभी कलेक्टर 24 घंटे में रिपोर्ट गृह विभाग को भेजेंगे। बैठक में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंत्रालय में हरदा के हादसे की विस्तार पूर्वक जानकारी ली।

banner
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव हरदा हादसे को लेकर गंभीर हैं। उन्होंने सभी कलेक्टर्स से जिलों में संचालित पटाखा फैक्ट्रियों के संचालन लाइसेंस की शर्तों की जांच कर 24 घंटे में रिपोर्ट तलब की है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंत्रालय में सभी कलेक्टर्स और कमिश्नर की ऑनलाइन बैठक बुलाई। इसमें सभी कलेक्टर्स को उनके जिले में संचालित पटाखा फैक्ट्री का संचालन नियमों के अनुसार हो रहा या नहीं, इसकी शर्तों के अनुसार जांच कर रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने कहा कि सभी कलेक्टर 24 घंटे में रिपोर्ट गृह विभाग को भेजेंगे। बैठक में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मंत्रालय में हरदा के हादसे की विस्तार पूर्वक जानकारी ली।

आपात बैठक बुलाई

बता दें, इससे पहले मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में हरदा हादसे को लेकर आपात बैठक बुलाई। इसमें आसपास के क्षेत्र से एंबुलेंस हरदा पहुंचाई गई। मुख्यमंत्री ने बैठक में हेलीकॉप्टर की व्यवस्था के लिए सेना से संपर्क किया। भोपाल, इंदौर में मेडिकल कॉलेज और एम्स भोपाल में बर्न यूनिट को तैयार रखने के भी निर्देश दिए। नर्मदापुरम में भी अस्पतालों में घायलों के उपचार के लिए व्यवस्था की गई। घायलों को लाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाएगा। भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद सहित आसपास के नगरों के अस्पतालों में बर्न यूनिट तत्काल आरंभ की गई। भोपाल में हमीदिया और इंदौर में एमवाय हॉस्पिटल को हाई अलर्ट पर रखा गया है। घायलों को लाने के लिए सेना की सहायता भी ली जा रही है।