H

राज्यपाल के अभिभाषण के बाद मप्र विधानसभा की कार्यवाही स्थगित, विपक्ष ने किया हंगामा

By: Ramakant Shukla | Created At: 07 February 2024 12:44 PM


मध्यप्रदेश की 16वीं विधानसभा का पहला बजट सत्र बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ। विपक्ष के हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही गुरुवार सुबह 11 बजे तक स्थगित कर दी गई।

banner
मध्यप्रदेश की 16वीं विधानसभा का पहला बजट सत्र बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ। विपक्ष के हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही गुरुवार सुबह 11 बजे तक स्थगित कर दी गई। यह सत्र 19 फरवरी तक चलेगा, जिसमें कुल नौ बैठकें होंगी। कुल 13 दिन चलने वाले सत्र में 2303 प्रश्न भेजे गए हैं। इनमें 1163 तारांकित हैं। चार स्थगन, 259 ध्यानाकर्षण और 12 अशासकीय संकल्प आएंगे। सदन की कार्यवाही राज्यपाल मंगुभाई पटेल के अभिभाषण के साथ शुरू हुई। राज्यपाल जब अपना अभिभाषण पढ़ रहे थे, उसी दौरान कांग्रेस के विधायकों ने भाजपा के संकल्प पत्र की प्रतियां सदन में लहराई और नारेबाजी शुरू कर दी।

गिनाई सरकार की उपलब्धियां

बजट सत्र की शुरुआत राज्यपाल मंगुभाई पटेल के अभिभाषण के साथ हुई। राज्यपाल ने अपने अभिभाषण के दौरान प्रदेश सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि विकसित भारत संकल्प यात्रा में 50 लाख से अधिक लोगों को लाभान्वित किया गया है। जहां-जहां मध्यप्रदेश में श्री राम और श्री कृष्ण के कदम पड़े हैं उन स्थानों को तीर्थ के रूप में विकसित किया जाएगा। केन-बेतवा, पार्वती- कालीसिध-चंबल लिंक परियोजना प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगी। राज्यपाल ने कहा कि पीएम जनमन योजना अंतर्गत विशेष पिछड़ी जनजातीय के हित में विभिन्न काम शुरू करने का निर्णय लिया है।

विपक्षी विधायकों ने की नारेबाजी

राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विपक्षी कांग्रेस के विधायकों ने भाजपा के संकल्प पत्र की प्रतियां सदन में लहराई और राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान नारेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने सरकार पर जनता से धोखेबाजी का आरोप लगाया। नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने कहा कि अभिभाषण में न तो धान की खरीदी 3100 रुपये प्रति क्विंटल करने का उल्लेख है न ही गेहूं का मूल्य 2700 रुपये देने की बात है। 450 रुपये में रसोई गैस सिलेंडर देने का भी उल्लेख नहीं है। नारेबाजी करते हुए कांग्रेस के सदस्य सदन के बाहर निकल गए।