H

Russia: पुतिन को राष्ट्रपति चुनावों में टक्कर देने को तैयार बोरिस नादेजदीन, आखिर कौन है ये नेता जिसका हजारों रूसी कर रहे समर्थन

By: payal trivedi | Created At: 29 January 2024 05:29 PM


यूक्रेन से युद्ध के बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए अब एक और नई मुसीबत खड़ी हो रही है। दरअसल, पुतिन को राष्ट्रपति चुनाव में एक नेता बड़ी चुनौती पेश करने को तैयार है, जिसे हजारों रूसी भी समर्थन दे रहे हैं।

banner
मॉस्को: यूक्रेन से युद्ध के बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए अब एक और नई मुसीबत खड़ी हो रही है। दरअसल, पुतिन को राष्ट्रपति चुनाव में एक नेता बड़ी चुनौती पेश करने को तैयार है, जिसे हजारों रूसी भी समर्थन दे रहे हैं।

बोरिस नादेजदीन दे रहे पुतिन को टक्कर

पुतिन को टक्कर देने को तैयार ये नेता 60 वर्षीय बोरिस नादेजदीन है। ये स्थानीय विधायक और शिक्षाविद भी हैं। आगामी राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ वे बड़ी चुनौती खड़ी कर सकते हैं। रूसी विपक्ष ने भी बोरिस नादेजदीन को राष्ट्रपति पद की दौड़ में नामांकित करने की मांग की है।

क्यों रूसी कर रहे समर्थन

बोरिस नादेजदीन ने रूस की जनता से कई वादे किए हैं। यूक्रेन में संघर्ष को समाप्त करने, रूसी पुरुषों को जंग में ढकेलने से रोकने और पश्चिम के साथ बातचीत शुरू करने की वकालत करने वाले नादेजदीन की बातों ने जनता को काफी प्रभावित किया है। यही कारण हैं कि हजारों रूसी उनका समर्थन कर रहे हैं।

कतारों में लगे लाखों रूसी

नादेजदीन की वेबसाइट के अनुसार, उन्होंने अपनी उम्मीदवारी के समर्थन में 1,80,000 हस्ताक्षर एकत्र किए हैं। जिससे उन्हें मार्च में होने वाले आगामी राष्ट्रपति चुनाव में खड़े होने के लिए कम से कम 40 अलग-अलग रूसी क्षेत्रों से 100,000 हस्ताक्षरों की आवश्यकता पूरी हो गई है। गौरतलब है कि हस्ताक्षर के लिए लोगों की कतारें उस देश में एक दुर्लभ प्रदर्शन है। नादेजदीन को पूर्व टीवी पत्रकार येकातेरिना डंटसोवा का भी समर्थन मिला है, जिन्होंने दिसंबर में इसी तरह के शांति मंच पर राष्ट्रपति पद के लिए अपनी उम्मीदवारी की घोषणा की थी। हालांकि, रूस के चुनाव आयोग ने उन्हें चुनाव में भाग लेने से वंचित कर दिया।

कौन हैं बोरिस नादेजदीन?

नादेजदीन 1990 के दशक की शुरुआत से राजनीति में हैं। उस दौरान वह सुधारवादी याब्लोको पार्टी के सदस्य और संसद के निचले सदन स्टेट ड्यूमा में डिप्टी थे। बाद में वह एक अन्य उदारवादी पार्टी यूनियन ऑफ राइट फोर्सेज में शामिल हो गए और राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव के अधीन क्षेत्रीय विकास के उप मंत्री के रूप में कार्य किया। हालांकि, उनके अभी भी लोकप्रिय पुतिन को हराने की अत्यधिक संभावना नहीं है।

रूस में कब है चुनाव

रूस में राष्ट्रपति चुनाव 17 मार्च 2024 को निर्धारित है। पुतिन जो 2000 से सत्ता में हैं, उनको व्यापक रूप से पांचवां कार्यकाल जीतने की उम्मीद है, जिससे उनका शासन 2030 तक बढ़ जाएगा। हालांकि, विश्लेषकों का कहना है कि चुनाव का परिणाम पूर्वनिर्धारित है और पुतिन कम से कम अगले छह वर्षों तक सत्ता में बने रहेंगे, लेकिन कुछ का यह भी कहना है कि पुतिन को चुनौती मिल सकती है।