H

Rajasthan politics: बीएपी के तीन विधायकों ने शिक्षा मंत्री दिलावर से क्यों की आदिवासी समाज से माफी की मांग, जानें क्या है पूरा मामला?

By: payal trivedi | Created At: 05 July 2024 06:29 AM


शिक्षा मंत्री मदन दिलावर के बीएपी नेताओं के डीएनए टेस्ट कराने वाले बयान को लेकर आज सदन में जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस के साथ भारत आदिवासी पार्टी (बीएपी) के तीनों विधायकों ने भी दिलावर के माफी मांगने की मांग को लेकर सदन का बहिष्कार किया।

bannerAds Img
Jaipur: शिक्षा मंत्री मदन दिलावर के बीएपी नेताओं के डीएनए टेस्ट कराने वाले बयान को लेकर आज सदन में जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस के साथ भारत आदिवासी पार्टी (बीएपी) के तीनों विधायकों ने भी दिलावर के माफी मांगने की मांग को लेकर सदन का बहिष्कार किया। बीएपी के तीनों विधायकों ने कहा कि जब तक मदन दिलावर आदिवासी समाज से माफी नहीं मांगते है। तब तक उनका विरोध जारी रहेगा। आदिवासी समाज उनका बहिष्कार करेगा। दिलावर जहां भी जाएंगे। हम विरोध स्वरूप उन्हें काले झंडे दिखाएंगे।

'आदिवासी ना तो हिंदू है ना ही वनवासी है'

आसपुर विधायक उमेश मीना ने कहा कि मदन दिलावर कौन होते है, यह कहने वाले कि आदिवासी हिंदू है। आदिवासी ना तो हिंदू है ना ही वनवासी है। आदिवासी इस देश का मूल मालिक हैं। आदिवासी की अलग परंपरा, संस्कृति और पूजा पद्धति हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग जोर से बोलते हैं और झूठ बोलते हैं। आज भी सदन में बीजेपी विधायकों ने आदिवासी समाज का अपमान किया।

सीएम ओछी मानसिकता वाले मंत्री को बर्खास्त करे

धरियावद से बीएपी विधायक थावर चंद ने कहा कि शिक्षा मंत्री मदन दिलावर आदिवासी क्षेत्रों में शिक्षा की हालत कैसी है। वहां भवन जर्जर हो गए हैं। वहां बच्चों को लेकर क्या सुविधा है या नहीं। इस पर कोई बात नहीं करते हैं। उलटा आदिवासी को अपमानित करने का काम करते हैं। मदन दिलावर के बयान से बीजेपी सरकार की आदिवासियों के प्रति क्या मानसिकता हैं। यह प्रतीत होता हैं। आज इतना विरोध होने के बाद भी मदन दिलावर ने आदिवासी समाज से माफी नहीं मांगी। उन्होंने सीएम भजनलाल शर्मा से मांग करते हुए कहा कि अगर मदन दिलावर माफी नहीं मांगते है तो ऐसी ओछी मानसिकता वाले मंत्री को वे तुरंत बर्खास्त करें और आदिवासियों को न्याय दिलाएं।

विपक्ष शिक्षा मंत्री के इस्तीफे पर अड़ा

बजट सत्र के दूसरे दिन भी विधानसभा में विपक्ष का जोरदार हंगामा देखने को मिला। आदिवासियों के डीएनए जांच वाले बयान पर शिक्षा मंत्री मदन दिलावर से माफी मंगवाने और इस्तीफे की मांग को लेकर विपक्ष ने आज सदन से वॉकआउट किया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि दिलावर ने बयान पर माफी नहीं मांगी है, सीएम ने उनसे इस्तीफा भी नहीं लिया। हमारी दो ही प्रमुख मांग हैं। इन दोनों मुद्दों को लेकर विपक्ष से आज सदन की कार्यवाही का बहिष्कार कर दिया। विधानसभा की कार्यवाही 10 जुलाई को सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है।

यह कहा था शिक्षा मंत्री दिलावर ने

दरअसल शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने सांसद बीएपी नेताओं के खुद को हिंदू नहीं मानने के मामले में मीडिया से बात करते हुए कहा था कि अगर वो ऐसा कहते है तो उनके डीएनए की जांच करवा लेंगे।उन्होने ऐतराज जताते हुए कहा था कि 'जो पार्टी देश और समाज को तोड़ने की गतिविधियां शुरू करें। उन्हें किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। BAP के नेता खुद को हिंदू नहीं मानते हैं तो उनके डीएनए की जांच करा लेंगे। हमारे यहां कुछ लोग वंशावली देखते हैं, उनसे भी चेक करवाया जाएगा।