H

Rajasthan News: अलवर शहर के पास दिखे बाघ-बाघिन, करणी माता मंदिर की सीढ़ियों की तरफ 1 घंटे तक बैठे, पर्यटक हुए रोमांचित

By: payal trivedi | Created At: 31 March 2024 01:32 PM


सरिस्का के बफर जोन यानी अलवर शहर के आसपास के जंगल में टाइगर की खूब साइटिंग हो रही है। रविवार सुबह बाला किले से पहले करणी माता मंदिर के पास बाघ-बाघिन को देखा गया।

banner
Alwar: सरिस्का के बफर जोन यानी अलवर शहर के आसपास (Rajasthan News) के जंगल में टाइगर की खूब साइटिंग हो रही है। रविवार सुबह बाला किले से पहले करणी माता मंदिर के पास बाघ-बाघिन को देखा गया। दोनों शनिवार शाम भी इस इलाके में देखे गए थे। वाइल्ड लाइफ फोटो जर्नलिस्ट हिमांशु शर्मा ने बताया- करणी माता मंदिर की सीढ़ियों की तरफ छोटे मंदिर की तरफ टाइगर एसटी-18 और टाइग्रेस एसटी-31 नजर आए हैं। शनिवार शाम को करीब 1 घंटे तक भी यहीं बैठे नजर आए थे। रविवार सुबह भी यह नजारा फिर देखने को मिला।

बफर जोन में करीब 7 बाघ-बाघिन

बाघ-बाघिन को एक साथ देखकर पर्यटक (Rajasthan News) रोमांचित हो गए। इससे पहले भी टाइगर एसटी 19 अपने दो शावकों के साथ नजर आई थी। बफर जोन में करीब 7 बाघ-बाघिन है। बाला किला रेंजर शंकर सिंह ने कहा- हाल ही में सरिस्का में बाघिन एसटी-12 ने 3 शावकों को जन्म दिया था। अब एसटी-18 और 31 का जोड़ा दिखाई देने से लग रहा है कि जल्द ही खुशखबरी आएगी। राज्य सरकार भी सरिस्का में नए टाइगर लाने के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। उन्होंने कहा- बफर जोन बाला किला, करणी माता मंदिर और आसपास आने-जाने वाले लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। देर शाम शहरवासियों और इलाके के आस-पास रहने वाले लोगों को घने जंगल में जाने से बचना चाहिए। यहां टाइगर की मौजूदगी है।