H

टाटा ग्रुप में बड़ा बदलाव, रतन टाटा की यह कमेटी लेगी सभी अहम फैसले

By: Sanjay Purohit | Created At: 10 July 2024 11:33 AM


देश के सबसे बड़े औद्योगिक घराने टाटा ग्रुप में क्या कोई उथल-पुथल होने जा रहा है? ये सवाल इसलिए खड़ा हुआ है क्योंकि टाटा ग्रुप पर कंट्रोल करने वाले टाटा ट्रस्ट्स ने एक स्पेशल एग्जीक्यूटिव कमेटी बनाई है। इसका चेयरमैन रतन टाटा को बनाया गया है

bannerAds Img
देश के सबसे बड़े औद्योगिक घराने टाटा ग्रुप में क्या कोई उथल-पुथल होने जा रहा है? ये सवाल इसलिए खड़ा हुआ है क्योंकि टाटा ग्रुप पर कंट्रोल करने वाले टाटा ट्रस्ट्स ने एक स्पेशल एग्जीक्यूटिव कमेटी बनाई है। इसका चेयरमैन रतन टाटा को बनाया गया है, जबकि इसमें कंपनी से जुड़े कई बड़े नाम और शामिल हैं। कंपनी से जुड़े सभी जरूरी और बड़े फैसले अब यही कमेटी करेगी।

सूत्रों के अनुसार, टाटा ट्रस्ट्स की इस स्पेशल एग्जीक्यूटिव कमेटी के वाइस चेयरमैन वेणु श्रीनिवासन और विजय सिंह हैं जबकि इसमें ट्रस्टी मेहली मिस्त्री को भी शामिल किया गया है।

कमेटी बनाने की वजह

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इस कमेटी को बनाने का मकसद रोजमर्रा के काम पर तेजी से डिसिजन लेना है, ताकि हर निर्णय पर पूरे बोर्ड से रजामंदी लेने की जरूरत ना पड़े। टाटा ग्रुप से जुड़े अलग-अलग ट्रस्टों में कुल 18 ट्रस्टी हैं।

टाटा ग्रुप की होल्डिंग कंपनी है टाटा संस, जिसमें टाटा ट्रस्ट्स की कंट्रोलिंग अथॉरिटी है। ऐसे में टाटा संस और ओवरऑल टाटा ग्रुप के अहम निर्णय लेने में टाटा ट्रस्ट्स की ही भूमिका रहती है। इसके अलावा टाटा संस में कई अलग-अलग ट्रस्टी की भी हिस्सेदारी है।