H

हवाओं का बदला रुख, बढ़ा रात का तापमान, छाए आंशिक बादल, दतिया, गुना समेत इन इलाकों में बूंदाबांदी

By: Ramakant Shukla | Created At: 04 February 2024 01:24 PM


पश्चिमी विक्षोभ के असर से प्रदेश में मौसम का मिजाज बदलने लगा है। विशेषकर प्रदेश के उत्तरी क्षेत्र में बादल छाने लगे हैं। साथ ही गरज-चमक के साथ वर्षा होने की संभावना बन गई है। इसी क्रम में पिछले 24 घंटों के दौरान रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक दतिया, गुना, शिवपुरी और मुरैना में बूंदाबांदी हुई।

banner
पश्चिमी विक्षोभ के असर से प्रदेश में मौसम का मिजाज बदलने लगा है। विशेषकर प्रदेश के उत्तरी क्षेत्र में बादल छाने लगे हैं। साथ ही गरज-चमक के साथ वर्षा होने की संभावना बन गई है। इसी क्रम में पिछले 24 घंटों के दौरान रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक दतिया, गुना, शिवपुरी और मुरैना में बूंदाबांदी हुई।

उछला रात का पारा

उधर हवा का रुख बदलने एवं बादल छाने के कारण रात के तापमान में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। प्रदेश में सबसे कम 8.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दतिया में रिकॉर्ड किया गया। हिल स्टेशन पचमढ़ी में रात का पारा 9.4 डिग्री सेल्सियस पर रहा। राजधानी भोपाल में न्यूनतम तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो शनिवार के न्यूनतम तापमान 11.6 डिग्री सेल्सियस की तुलना में चार डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। रविवार-सोमवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, उज्जैन एवं भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा हो सकती है।

चल रही दक्षिण-पूर्वी हवाएं

वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान के आसपास द्रोणिका के रूप में बना हुआ है। उसके प्रभाव से राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात बन गया है। इसके अतिरिक्त उत्तर भारत से लेकर मध्य भारत तक पश्चिमी जेट स्ट्रीम भी लगातार बना हुआ है। इन मौसम प्रणालियों के असर से हवाओं का रुख दक्षिण-पूर्वी हो गया है। इस वजह से जहां रात के तापमान में बढ़ोतरी हुई है, वहीं दिन के तापमान में भी बढ़ोतरी होने की संभावना है।

आगे ऐसा रहेगा मौसम

उधर हवाओं के साथ नमी आने के कारण रविवार-सोमवर को ग्वालियर, चंबल, सागर, भोपाल, उज्जैन संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा हो सकती है। पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ने के बाद छह-सात फरवरी से एक बार फिर हवाओं का रुख बदलने से रात के तापमान में गिरावट होने के आसार हैं।