H

इंदौर में ही तोड़ी गई थी सिमी की रीढ़

By: Sanjay Purohit | Created At: 30 January 2024 02:47 PM


आतंकी संगठन सिमी की रीढ़ प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में ही तोड़ी गई थी

banner
देश में बम धमाकों सहित अन्य आतंकी कार्रवाई में लिप्त सिमी आतंकियों की रीढ़ प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में ही तोड़ी गई थी। 2008 में जयपुर बम धमाकों के बाद जब देशभर की खुफिया एजेंसियां सिमी और सहयोगी आतंकी संगठनों के नेटवर्क की कड़ियां जोड़ने में जुटी थीं, तब इंदौर में पुलिस ने सिमी सरगना सफदर ना इंदौर के श्याम नगर इलाके में ये आतंकी मकान किराए से लेकर छुपे थे। इनकी गतिविधियों की भनक लगने के बाद तत्कालीन पीथमपुर सीएसपी और वर्तमान में एसपी ग्रामीण (इंदौर) सुनील मेहता और तत्कालीन एएसपी और वर्तमान में खंडवा एसएसपी बीरेंद्र सिंह की टीम ने घेराबंदी की और बगैर एक भी गोली चलाए इन सशस्त्र आतंकियों को दबोच लिया था। गौरी सहित 13 आतंकियों को गिरफ्तार किया था।

मध्य प्रदेश में सक्रिय था सिमी का माड्यूल

एसपी मेहता ने बताया कि 2008 में सिमी का माड्यूल मध्य प्रदेश में सक्रिय था। सफदर नागौरी, कमरुद्दीन नागौरी, आमिल परवेज, शिबली, शार्दूली सहित केरल और खंडवा क्षेत्र के आतंकियों को पकड़ने में सफलता मिली थी। इन आतंकियों ने इंदौर के समीप चोरल के जंगलों में ट्रेनिंग कैंप लगाकर हथियार चलाने और बम धमाके करने का अभ्यास किया था। इनकी निशानदेही पर तब पुलिस ने चोरल के जंगलों से डिटोनेटर सहित अन्य विस्फोटक सामग्री बरामद की थी।