H

दोबारा शुरू होगी आकांक्षा, जनजातीय विद्यार्थियों को मिलेगी निजी कोचिंग, इंदौर में नीट, भोपाल में जेईई और जबलपुर में क्लैट की होगी तैयारी

By: Ramakant Shukla | Created At: 01 July 2024 06:39 AM


कोरोना काल में बंद हुई आकांक्षा योजना को प्रदेश सरकार दोबारा शुरू करने जा रही है। इस बार योजना के तहत अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग शहरों में अलग-अलग विषय की तैयारी करवाने की तैयारी है।

bannerAds Img
कोरोना काल में बंद हुई आकांक्षा योजना को प्रदेश सरकार दोबारा शुरू करने जा रही है। इस बार योजना के तहत अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग शहरों में अलग-अलग विषय की तैयारी करवाने की तैयारी है। बतादें कि यह योजना 2018-19 में जनजातीय विद्यार्थियों के लिए शुरू की गई थी। इसमें अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शासन की ओर से कराने का प्रावधान किया गया था, लेकिन कोरोना काल में योजना बंद हो गई। अब उसको शासन के निर्देश पर फिर से शुरू करने की तैयारी जनजातीय कार्य विभाग ने शुरू कर दी है। इसमें जनजातीय विद्यार्थियों को मेडिकल, इंजीनियरिंग और कानून (ला) की राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता परीक्षाओं जेईई, नीट और क्लैट की तैयारी करवाने के निशुल्क कोचिंग दिलवाई जाएगी।

प्रदेश के 800 जनजातीय विद्यार्थियों का होगा चयन

योजना के तहत शैक्षणिक सत्र 2024-25 में राज्य स्तर पर प्रवेश परीक्षा से 400 विद्यार्थियों का चयन जेईई के लिए किया जाएगा। जेईई की कोचिंग भोपाल में होगी। नीट की कोचिंग इंदौर और क्लैट की कोचिंग के लिए जबलपुर को चुना गया है। इनमें 200-200 विद्यार्थियों को चुना जाएगा।

कोचिंग सेंटर पर छात्रों को मिलेगी आवासीय सुविधा

योजना के तहत कोचिंग के लिए चयनित विद्यार्थियों को कोचिंग सेंटर पर भी आवासीय सुविधा दी जाएगी। उन्हें इसकी तैयारी से संबंधित पुस्तकें और स्टेशनरी सहित मार्गदर्शन भी दिया जाएगा। इन विद्यार्थियों को टेबलेट भी दिया जाएगा। इसके लिए इंटरनेट एवं डेटा प्लान की सुविधा भी निशुल्क प्रदान की जाएगी।

अब तक 100 विद्यार्थियों का हुआ चयन

आकांक्षा योजना के तहत 2020-21 में परीक्षा हुई थी। इसमें जेईई में 73 विद्यार्थियों में से सात का चयन हुआ। वहीं नीट में 47 में से 25 और क्लैट में 47 में से 22 विद्यार्थियों का चयन हुआ। इसी तरह 2021-22 में हुई परीक्षा में जेईई में 200 विद्यार्थियों में से आठ का चयन हुआ। नीट में 47 में से 31 विद्यार्थी और क्लैट में 47 में से सात का चयन हुआ। अब तक कुल 100 विद्यार्थियों का चयन हुआ है।