H

पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की प्रतिमा को हटाया, पूर्व मंत्री सिंघार समेत अन्य कांग्रेसियों ने किया विरोध

By: Sanjay Purohit | Created At: 23 June 2024 10:23 AM


कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि प्रतिमाएं हटाई जा सकती है, नाम मिटाएं जा सकते हैं। लेकिन, भारत के जन जन के मन से देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी की स्मृतियों को मिटाने में कभी भी कामयाबी नहीं मिलेगी।

bannerAds Img
मध्य प्रदेश के खंडवा जिले के कालमुखी गांव के एक चौक पर बरसों पहले से लगी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की प्रतिमा को हटा दिया गया। प्रतिमा को जेसीबी के जरिए हटाया गया है। इसका वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस हमलावर हो गई। वहीं, भाजपा समर्थित स्थानीय जनप्रतिनिधियों का कहना है कि यह प्रतिमा सड़क के बीचो-बीच लगी थी। जिसे सड़क चौड़ीकरण लिए कालमुखी पंचायत के द्वारा हटाया गया है। प्रतिमा को दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। फिलहाल प्रतिमा को गांव के पंचायत भवन में रखा गया है। इधर, स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने इंदिरा गांधी की प्रतिमा हटाने को लेकर प्रदर्शन करते हुए उचित कार्रवाई की मांग की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उमंग सिंगार और अरुण यादव ने भी इसको लेकर एक्स कर नाराजगी जाहिर की है।

कांग्रेस नेता उमंग सिंगार और अरुण यादव ने जताया विरोध

मामले को लेकर नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव ने एक्स कर लिखा है कि ग्राम कालमुखी (खण्डवा) में पंचायत द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी जी की 40 वर्ष पुरानी प्रतिमा को हटाने की घटना सामने आई है। मेरी खण्डवा कलेक्टर से मांग है कि जल्द से जल्द इंदिराजी की प्रतिमा को सम्मान के साथ उचित स्थल पर लगाए, अन्यथा कांग्रेस पार्टी सड़कों पर उतरकर विरोध करेगी। वही नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने एक्स पर लिखा है कि BJP नेताओं की इस हरकत को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

स्मृतियों को मिटाने में कामयाबी नहीं मिलेगी

कांग्रेस नेता अरुण यादव के एक्स को रिट्वीट करते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने लिखा है कि प्रतिमाएं हटाई जा सकती है, नाम मिटाएं जा सकते हैं। लेकिन, भारत के जन जन के मन से देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी की स्मृतियों को मिटाने में कभी भी कामयाबी नहीं मिलेगी। मप्र के खंडवा की कालमुखी पंचायत के अन्तर्गत किया गया यह कृत्य कायरता और भय का एक और उदाहरण है।