Connect with us

National

12 दिसम्बर से 17 दिन की यात्रा पर निकलेगी अगली रामायण एक्सप्रेस

Published

on

Share Post:
  • 7 नवम्बर को चली थी रामायण एक्सप्रेस
  • फुल बुकिंग के साथ रवाना हुई थी ट्रेन
  • अब अगली रामायण एक्सप्रेस भी चलने को तैयार

 

हर साल यात्रा के लिए चलने वाली रामायण एक्सप्रेस में इस बार कई नए चीजो को जोड़ा गया है। रामायण एक्सप्रेस इस बार एक डीलक्स एसी ट्रेन होगी, जिसमें केटरिंग स्टाफ़ वेटर के लिए नये ड्रेस कोड भी शामिल हैं। इस बार इस ट्रेन में मौजूद वेटर गेरुए कपड़ों के साथ माला और पगड़ी पहने हुए नजर आएंगे। पगड़ी भी गेरुए रंग की ही होगी। आईआरसीटीसी के मुताबिक इस बार 7 नवम्बर को रामायण एक्सप्रेस को ट्रायल के तौर पर चलाया गया था। जो फुल बुकिंग के साथ रवाना हुई थी। इसी को देखते हुए अब दूसरी रामायण एक्सप्रेस ट्रेन को भी चलाया जाएगा।

अगली रामायण एक्सप्रेस में जोड़ा गया भद्राचलम का नाम  

दूसरी रामायण एक्सप्रेस ट्रेन 12 दिसंबर को दिल्ली के सफ़दरजंग स्टेशन से रामेश्वरम तर चलाई जाएगी। इस बार खास ये है कि भद्राचलम को एक नए डेस्टिनेशन हाल्ट के रुप में जोड़ गया है। भद्राचलम तेलंगाना राज्य में स्थित है जिसे दक्षिण के अयोध्या नाम से भी जाना जाता है। ये नाम इस वजह से दिया गया क्योंकि ऐसा माना जाता है कि भगवान राम वनवासे के दैरान यहां ठहरे थे। सीता रामचंद्र स्वामी मंदिर और आँजेनेय स्वामी मंदिर यहां के मुख्य आकर्षण हैं।

Advertisement

ट्रेन का पहला हाल्ट होगा अयोध्या 

दूसरी रामायण एक्सप्रेस ट्रेन का पहला हाल्ट अयोध्या होगा। जहां इस बार तीर्थ यात्रियों को श्री राम जन्म भूमि और हनुमान मंदिर के अलावा नंदीग्राम स्थित भारत मंदिर के भी दर्शन कराए जाएंगे।

अयोध्या के बाद सीतामढ़ी रुकेगी ट्रेन

Advertisement

अयोध्या में दर्शन कराने के बाद ट्रेन बिहार के सीतामढ़ी में रुकेगी, जहां यात्रियों को सीता जी के जन्म स्थल के दर्शन करेंगे। इसके बाद सड़क के रास्ते से नेपाल में स्थित राम जानकी मंदिर के दर्शन भी यात्रियों को कराए जाएंगे।

ट्रेन का तीसरा हाल्ट होगा वाराणसी 

इसके बाद ट्रेन वाराणसी में रुकेगी, यहां यात्रियों को सड़क के रास्ते से वाराणसी , प्रयागराज, श्रिंगवेरपुरम और चित्रकूट के प्रमुख मंदिरों के दर्शन कर सकेंगे।

Advertisement

नासिक के लिए रवाना होगी ट्रेन

इसके बाद ट्रेन नासिक जाएगी, यहां त्रयम्बकेश्वर मंदिर और पंचवटी के दर्शन कराए जाएगे। इसके बाद हम्पी के लिए ट्रेन रवाना होगी जहां प्राचीन किष्किनधा नगर था। यहां पर यात्री हनुमान जन्म स्थल और दूसरे हेरिटेज स्थलों और मंदिरों के दर्शन भी कर पाएंगे।

रामेश्वर होगा ट्रेन का आखिरी हाल्ट 

Advertisement

ट्रेन का आखिरी हाल्ट रामेश्वर होगा। ट्रेन अपनी 17 दिन की यात्रा को पूरा करके वापस दिल्ली आ जाएगी। 16 वें दिन भी यात्री भद्राचलम मंदिर के दर्शन कर पाएंगे। ट्रेन की ये पूरी यात्रा कुल 7500 किलोमीटर की होगी।

Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.