Connect with us

Chhattisgarh

4 लाख लोगों की रोशनी बचाकर छत्तीसगढ़ बनेगा दृष्टिहीनता मुक्त राज्य

Published

on

Share Post:
  • 2025 तक प्रदेश को करना है मोतियाबिंद दृष्टिहीनता मुक्त
  • 4 लाख मरीजों को किया गया चिन्हित
  • ऑपरेशन की जानकारी नहीं देने वाले अस्पतालों पर होगी कार्रवाई

रायपुर। कोरोना के चलते दूसरी बीमारी से ग्रस्त मरीजों को इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही थी। प्रदेश को 2025 तक मोतियाबिंद दृष्टिहीनता मुक्त राज्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है । जिसके तहत 4 लाख लोगों को चिन्ह किया गया है। ऑपरेशन के साथ-साथ स्वास्थ विभाग सर्वे का भी काम कर रहा है। प्रदेश के 1-1 ब्लॉक के साथ पूरे जिले को मोतियाबिंद दृष्टिहीनता मुक्त बनाने का लक्ष्य है ।लेकिन कुछ अस्पताल मोतियाबिंद के हो रहे ऑपरेशन की जानकारी नहीं दे रहे हैं. सीएमएचओ ने ऐसे अस्पतालों पर कार्रवाई बात कही है।

2025 तक प्रदेश को करना है मोतियाबिंद दृष्टिहीनता मुक्त

मोतियाबिंद के लिए सभी जिलों में सर्वे करने का काम किया जा रहा है जिसके बाद लक्ष्य निर्धारित किए जाएंगे। रायपुर जिले को 20 हजार का लक्ष्य निर्धारित है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पतालों को मोतियाबिंद ऑपरेशन की जानकारी देने का आदेश भी दिया है। रायपुर के 24 निजी अस्पतालों में मोतियाबिंद का ऑपरेशन हो रहा है। जिसमें से 11 निजी अस्पताल स्वास्थ्य विभाग को जानकारी नहीं दे रहे हैं। स्वास्थ विभाग इन पर कारवाई कर रहा हैं । साथ ही दो शासकीय अस्पताल अंबेडकर और जिला अस्पताल में मोतियाबिंद का ऑपरेशन होता है ।

प्रदेश में हो रहा सर्वे का काम

Advertisement

आंकड़े की बात की जाए तो प्रदेश में 4 लाख लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया जाना है। वहीं रायपुर में अप्रैल 2021 से लेकर जुलाई 2021 तक 5 हजार 366 का ऑपरेशन किए गए हैं। 1478 ऑपरेशन के लिए पंजीकृत है । वहीं अगस्त महीने में 1012 लोगों का ऑपरेशन किया गया है । दृष्टिहीनता नियंत्रण अभियान के राज्य नोडल अधिकारी डॉक्टर सुभाष मिश्रा ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य को मोतियाबिंद के कारण दृष्टिहीनता रहित करने का कार्यक्रम चल रहा है।

मोतियाबिंद के मरीजों की जा रही पहचान

इसके अंतर्गत विकासखंड के जरिए मोतियाबिंद के मरीजों की पहचान की जा रही है। इसके बाद उनका ऑपरेशन किया जा रहा हैं। हर विकासखंड के लिए शुरू के 2 महीनों में सर्वेक्षण का काम किया जाएगा। जिससे प्राथमिक सर्वेक्षण, स्वा कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन लोगों के द्वारा किया जाएगा। इसकी पुष्टि अधिकारियों द्वारा की जाएगी और जो दोनों आंखों से पीड़ित व्यक्ति है उनके ऑपरेशन प्राथमिकता से किये जाएंगे।

Advertisement

28 जिलों में योजना को किया जाएगा लागू

एक आंख में मोतियाबिंद वालों का भी ऑपरेशन किया जाता लेकिन प्राथमिकता दोनों आंख में मोतियाबिंद से दृष्टिहीनता वाले लोगों को ही दी जा रही है। शुरू के 4 महीने में इनका नियमित ऑपरेशन किया जाएगा और बाद के 4 महीनों में विशेष अभियान चलाकर अतिरिक्त बिस्तर की व्यवस्था कर ऑपरेशन की संख्या बढ़ाई जाएगी। ऐसे 10 महीने में हर विकासखंड को मोतियाबिंद से दृष्टिहीनता रहित करने की योजना है। जब सभी विकासखंड दृष्टिहीनता रहित हो जाएंगे तो जिले को मोतियाबिंद दृष्टिहीनता रहित माना जाएगा। राज्य के सभी 28 जिलों में इस योजना को लागू किया गया है।

जानकारी न देने वाले अस्पतालों पर होगी कार्रवाई

Advertisement

रायपुर सीएमएचओ डॉ मीरा बघेल ने बताया कि जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में ऑपरेशन हो रहे हैं। प्राइवेट हॉस्पिटल में भी मोतियाबिंद का ऑपरेशन हो रहे हैं ,लेकिन वहां से बार-बार जानकारी देने के लिए पत्र लिखने के बावजूद कुछ प्राइवेट हॉस्पिटल जानकारी नहीं दे रहे हैं और मेरे पास उन अस्पतालों की लिस्ट आ गई है जल्द उन पर कार्रवाई की जाएगी।

Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.